सेहत की रसोईः अरबी बनाने की विधी औऱ उसके फायदे

सेहत की रसोईः अरबी बनाने की विधी औऱ उसके फायदेgaonconnection

सेहत की रसोई यानि बेहतर सेहत आपके बिल्कुल करीब है। हमारे बुजुर्गों का हमेशा मानना रहा है कि सेहत दुरुस्ती के सबसे अच्छे उपाय हमारी रसोई में ही होते हैं।

इस कॉलम के जरिए हमारा प्रयास है कि आपको आपकी किचन में ही सेहतमंद बने रहने के व्यंजन से रूबरू करवाया जाए। सेहत की रसोई में इस सप्ताह हमारे मास्टर शेफ भैरव सिंह राजपूत इस बार पाठकों के लिए ला रहे हैं एक बेहतरीन रेसिपी। भैरव इस सप्ताह ‘चटपटी अरबी’ तैयार करने की विधि बता रहें हैं और इस रेसिपी के औषधीय गुणों की वकालत करेंगे हमारे अपने हर्बल आचार्य यानि डॉ दीपक आचार्य।

चटपटी अरबी

आवश्यक साम्रगी

  • 200 ग्राम अरबी
  • 1 चम्मच धनिया पाउडर
  • 1 चम्मच भुना हुआ जीरा पाउडर
  • 1 चम्मच गरम मसाला                     
  • 1 चम्मच आमचूर
  • 1 चम्मच लाल मिर्च का पाउडर
  • 1 नींबू का तैयार रस
  • खाने का थोड़ा सा तेल                                       
  • स्वादानुसार नमक

विधि

अरबी की बताई हुई मात्रा लेकर उसे साफ धो लिया जाए और फिर पानी में उबाल लिया जाए। जब अरबी उबल चुकी हो तो ठंडा होने पर इनके छिलके उतार लिए जाएं। उबली हुई अरबी के मोटे-मोटे टुकड़े काटकर तैयार कर लिए जाएं। एक गहरे बर्तन में थोड़ा सा तेल लिया जाए और उसे गर्म किया जाए। अरबी के टुकड़ों को इस तेल में गहरा लाल रंग होने तक भून लिया जाए ताकि ये खुश या थोड़े कड़क हो जाएं। जब ये तैयार हो जाएं तो इन टुकड़ों को किसी अन्य बर्तन या मिक्सिंग बाउल में रख दिया जाए। अब इस पर धनिया पाउडर, भुना हुआ जीरा पाउडर, गरम मसाला, आमचूर, लाल मिर्च का पाउडर और स्वादानुसार नमक भी मिला दिया जाए। जब सब अच्छी तरह मिल जाए तो ऊपर से नींबू का रस भी डाल दिया जाए और इस तरह तैयार हो जाएगी चटपटी अरबी।

क्या कहते हैं हर्बल आचार्य

अरबी भारतीय किचन की एक प्रचलित सब्जी है। अरबी के कंदों में प्रोटीन, स्टार्च, विटामिन, ए, बी, सी और ई के अलावा पोटेशियम, मैंग्नीज, फोस्फोरस और मैग्नेशियम पाया जाता है। आदिवासियों के अनुसार अरबी का कभी भी कच्चा सेवन नहीं करना चाहिए, इसकी पत्तियों और कंदों को भलिभांति उबालकर ही उपयोग में लाना चाहिए। अरबी के कंद बलबर्धक होते हैं।

आदिवासी हर्बल जानकारों की मानी जाए तो अरबी के कंदों की सब्जी का सेवन प्रतिदिन करने से हृदय भी मजबूत होता है। प्रतिदिन अरबी की सब्जी का सेवन उच्च-रक्तचाप में भी काफी उपयोगी है। भैरव की इस रेसिपी में तेल की कम मात्रा सुझाई गई है जो कि इस बात को ध्यान रखने में मदद करती है कि हमें तेल का कम से कम उपयोग करना चाहिए। बेहतर सेहत के लिए हमेशा सचेत रहने वाले लोगों को उबली हुए अरबी का सेवन ज्यादा करना चाहिए ताकि इसके खास औषधीय गुणों का ज्यादा से ज्यादा फायदा आपको मिले।

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top