शौचालय निर्माण में पचास लाख का घोटाला

शौचालय निर्माण में पचास लाख का घोटालागाँव कनेक्शन

ताखा (इटावा)। लोहिया ग्राम पंचायत ताखा में शौचालय निर्माण के लिए आए 50 लाख के बजट में  बड़ा घोटाला हुआ है। गाँव के पूर्व प्रधान और सचिव की मिलीभगत के कारण शौचालय निर्माण के नाम पर सभी नियमों को ताक पर रखकर किसी लाभार्थी को शौचालय की सीट पकड़ा दी, तो किसी के घर पर मात्र गड्ढा ही खोदकर डाल दिया गया है।

इटावा जनपद के विकास खंड ताखा की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत ताखा को वर्ष 2015 मे लोहिया समग्र विकास योजना में शामिल किया गया था। पंचायत के निवासी पूर्व विधायक महेन्द्र सिंह यादव ने खुलासा करते हुए गाँव कनेक्शन को बताया, '' योजना के तहत पंचायत में लगभग 450 शौचालयों के निर्माण के लिए पंचायत को लगभग पचास लाख रुपए पंचायत के खाते में भेजे गए थे। इसके नियमानुसार लाभार्थी को शौचालय का निर्माण कराना चाहिए था।’’

ताखा गाँव के निवासी रामबाबू (34 वर्ष) का नाम बारह हजार रुपए लाभार्थियों की बीपीएल सूची में 76वे नंबर पर दर्ज है। पैसा कई माह पहले जारी हो चुका है लेकिन रामबाबू को शौचालय के नाम पर मात्र शौचालय की सीट चुनाव के समय दे दी गई थी। रामबाबू बताते हैं, ''हमें शौचालय के नाम पर अभीतक सीट के अलावा कोई पैसा नहीं मिला है। शौचालय न होने के कारण बच्चों को खुले में शौच जाना पड़ रहा है।

गाँव की बुरी हालत के बारे में खंड विकास अधिकारी ताखा लोकेश मिश्रा ने बताया, ''मैंने 15 दिन पहले ही कार्यभार संभाला है। यह मामला अब मेरे संज्ञान मे आया है। मैं पूरे मामले की जांच करूंगा कि पूर्व प्रधान के कार्यकाल समाप्त होने के बाद वहां प्रशासक कौन तैनात किया गया था और उसे शौचालय संबंधी पूरा चार्ज मिला था भी की नहीं। इसमें जो भी दोषी पाया जाएगा उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।’’

कुछ ऐसा ही हाल पंचायत के गंगादीन (45 वर्ष) का है। उनका नाम सूची में 84 नंबर पर दर्ज है लेकिन शौचालय के नाम पर मात्र घर के सामने महीनों पहले गड्ढा खोदकर डाल दिया गया, जबकि 45 नंबर पर दर्ज मंजेस कुमार पुत्र मातादीन को तो कुछ भी नहीं मिला। ''निर्माण के बाद लाभार्थी को बारह हज़ार रुपए की चेक दी जानी चाहिए, लेकिन पूर्व ग्राम प्रधान रमेश चंद्र शाक्य एवं पंचायत सेक्रेट्री देशराज शाक्य ने पंचायत के 10 लाभार्थियों को तो बारह बारह हज़ार की चेक दे दी पर बाकी रकम क्षेत्र पंचायत के चुनाव की आचार संहिता लगने से कुछ दिनों पहले दोनों ने मिलकर निकाल ली।’’ महेन्द्र सिंह यादव आगे बताते हैं।

रिपोर्टर - मसूद तैमूरी

Tags:    India 
Share it
Top