शहर में हत्याएं, गाँवों में रेप ज़्यादा

शहर में हत्याएं, गाँवों में रेप ज़्यादागाँव कनेक्शन,शहर में हत्याएं, गाँवों में रेप ज़्यादा

लखनऊ। शहर में जहां हत्याएं अधिक हो रही हैं, वहीं गाँवों में बलात्कार की घटनाएं अधिक होती हैं। यह तस्वीर है लखनऊ जिले की।पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक 2012-15 के बीच सबसे ज्यादा हत्याएं शहर में हुई हैं। मडि़यांव में 36, चिनहट में 31 और ठाकुरगंज में 30 हत्याएं हुईं। जबकि सबसे ज्यादा 18 बलात्कार के केस माल थाना इलाके में दर्ज़ हुए।

वहीं, सबसे ज्यादा वाहन चोरी चौक (603), गोमतीनगर (186) और हजरतगंज (416) में हुई हैं। ताला तोड़कर चोरियां भी गोमतीनगर (163), ठाकुरगंज (149) और पीजीआई (144) में हुई हैं। लूट गाँवों में ज्यादा हुईं जिसमें 12 अकेले बक्शी का तालाब क्षेत्र की हैं।

आगरा में पायलट प्रोजेक्ट पर क्राइम मैपिंग की सफलता के बाद तत्कालीन एसएसपी और वर्तमान आईजी (पीएसी) आशुतोष पांडेय की अगुवाई में प्रदेश के हर थाना क्षेत्र के चार वर्षों के आकड़ों को जुटाया जा रहा है। क्राइम मैंपिंग जून तक पूरी होने की उम्मीद है, जिसमें जिलेवार आंकड़ें एकत्र कर उनका विश्लेषण किया जाएगा। अपराध की प्रवृत्ति को देखते हुए उऩ पर अंकुश लगाने के उपाय करेगी। 

मैपिंग के बाद जैसे बीकेटी क्षेत्र में लूट की घटनाएं ज्यादा हैं तो वहां पिकेट की संख्या बढ़ेगी और जहां वाहन चोरी ज्यादा हैं वहां सीसीटीवी आदि समेत तकनीक का सहारा लिया जाएगा।

 रिपोर्टर - गणेश जी वर्मा 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top