श्वेत क्रांति लाने वाले वर्गीज कुरियन का जन्मदिन आज

श्वेत क्रांति लाने वाले वर्गीज कुरियन का जन्मदिन आज

लखनऊ। भारत को दुनिया का सर्वाधिक दुग्ध उत्पादक देश बनाने व श्वेत क्रांति लाने वाले वर्गीज कुरियन का आज 94 वा जन्मदिन मनाया जा रहा है कुरियन को देश में सहकारी दुग्ध उद्योग के मॉडल की आधारशिला रखने का भी श्रेय जाता है।

वर्गीज कुरियन ने भारत को दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में सरताज बनाने के लिए कई बड़े कार्य किए। उनकी अथक मेहनत की वजह से ही दूध की कमी वाला यह देश दुनिया के सबसे बड़े दूध उत्पादक देशों में शुमार हुआ। दूध के क्षेत्र में सहकारी मॉडल को लाकर उन्होंने गुजरात और अन्य देशों के असंख्य गरीब किसानों की जिंदगी संवार दी। अरबों रुपये वाले ब्रांड 'अमूल' को जन्म देने वाले कुरियन का जन्म केरल के कोझिकोड में 26 नवंबर,1921 में हुआ था। कुरियन का निधन  9 सितम्बर 2012 को  90 वर्ष की आयु में हुआ था।

सिर्फ दूध उत्पादन ही नहीं डॉ. कुरियन के द्वारा संचालित 'श्वेत क्रांति' ने लाखो ग्रामीण महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने का कार्य किया विशेषकर राजस्थान में डॉ. कुरियन ने दूध के क्षेत्र में निजिकरण का विरोध कर उसे सहकारी बनाया और बिचौलियों से बचाते हुए दूध को सीधे किसानों से उपभोक्ताओं तक पहुंचाने का एक बेहतरीन मॉडल तैयार किया था।

कुरियन को उनकी सेवाओं के लिए भारत सरकार ने पद्म श्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण अवॉर्ड से नवाजा था। उन्हें सामुदायिक नेतृत्व के लिए रैमन मैग्सायसाय पुरस्कार, कार्नेगी-वाटलर विश्व शांति पुरस्कार और अमेरिका के इंटरनेशनल परसन ऑफ द ईयर सम्मान से भी नवाजा गया था।

Tags:    India 
Share it
Top