सिर्फ योजनाएं बनाने से विकास नहीं होगाः मुख्य सचिव

सिर्फ योजनाएं बनाने से विकास नहीं होगाः मुख्य सचिवgaonconnection

लखनऊ। प्रदेश के मुख्य सचिव दीपक सिंघल ने गंगा नदी सहित अन्य नदियों में प्रदूषण दूर करने के लिए विजन डॉक्यूमेन्ट को पूर्ण कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि मात्र योजनाएं बनाने से विकास नहीं होगा बल्कि धरातल पर बेस्ट टेक्नोलॉजी का प्रयोग कर योजनाओं का क्रियान्वयन निर्धारित समय में कराना होगा।

उन्होंने कहा कि कोई भी परियोजना निर्धारित समय में गुणवत्ता के साथ पूर्ण न होने पर लागत की वृद्धि होने की स्थिति पर सम्बन्धित प्रबन्ध निदेशक की जिम्मेदारी नियत कर कड़ी कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि आम नागरिकों को स्पष्ट जानकारी अवश्य दी जानी चाहिए कि परियोजना क्रियान्वयन किन विभागों द्वारा और केन्द्र सरकार अथवा उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कराया जा रहा है।

उन्होंने मथुरा-वृंदावन में निर्मित पुराने एसटीपी को बेहतर टेक्नोलॉजी का उपयोग कर अपग्रेडेशन के लिए विस्तृत प्रस्ताव बनाया जाए। उन्होंने कहा कि स्वीकृत परियोजना के अनुसार क्रियान्वयन के लिए वर्तमान माह अगस्त के द्वितीय या तृतीय सप्ताह में तिथि निश्चित कर एमओयू हस्ताक्षरित कराने का कार्यक्रम कराया जाए। 

मुख्य सचिव गुरुवार को शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में नमामि गंगे कार्यक्रम के सम्बन्ध में भारत सरकार के संयुक्त सचिव डॉ. रजत भार्गव के साथ सम्बन्धित अधिकारियों की बैठक कर आवश्यक निर्देश दे रहे थे। उन्होंने विगत दों वर्षों तक कोई उल्लेखनीय प्रगति न होने पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए निर्देश दिए कि कानपुर नगर में 63 करोड़ रुपए धनराशि से सीसामऊ नाले से निकलने वाले गंदे पानी को भिनगवा एसटीपी तक ले जाने के लिए स्वीकृत कार्यों को तत्काल प्रारम्भ कराकर आगामी 08 माह में पूर्ण कराने के निर्देश दिए।

Tags:    India 
Share it
Top