स्कूल ड्रेस और किताबों की अब अॉनलाइन होगी खरीददारी

स्कूल ड्रेस और किताबों की अब अॉनलाइन होगी खरीददारीgaonconnection

लखनऊ। इंटरनेशनल लेवल पर भले ही कितने ही ऑनलाइन शॉपिंग एप की शुरुआत हो जाए, लेकिन स्कूल जाने वाले बच्चों के सेलेबस, स्टेशनरी, ड्रेस और अन्य सामानों की खरीददारी के लिए न चाहते हुए भी अक्सर ही अभिभावकों को लोकल बाजार जाना पड़ता है। 

समय खराब और किराया भी, उस पर दुकानों पर जाकर भीड़ में घंटों खड़े रहना लोगों के लिए सबसे बड़ी मुसीबत बन गयी है। लेकिन मजबूरी है क्योंकि बच्चों की पढ़ाई के लिए स्कूलों द्वारा निर्धारित दुकानों के साथ उन सभी दुकानों के चक्कर लगाना ही पड़ता है, जहां से सेलेबस, स्टेशनरी  और ड्रेस खरीदनी है। लेकिन अब इन सारी तकलीफों से निजात मिल रही है।  

शहर के अमीनाबाद, कपूरथला, अलीगंज, इंदिरानगर, चौक, गोमतीनगर, निशातगंज और आलमबाग जैसे  लगभग हर क्षेत्र में स्थित दुकानों पर बिना जाए भी लोग सेलेबस, स्टेशनरी और ड्रेस मंगवा सकेंगे।

साथ ही इनाम के तौर पर प्वाइंट भी पा सकेंगे। अभिभावकों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए एवरीथिंग नाम के एप की शुरुआत की गयी है, जिसके जरिए सामानों की खरीददारी घर बैठे की जा सकेगी। 

इस सम्बन्ध में अभिभावक कौसर अब्बास (45 वर्ष) कहते हैं, “आज के दौर में बच्चों को पढ़ाना बड़ी चुनौती है। हर दिन कोई न कोई सामान की जरूरत स्कूल में पड़ती ही है और इसके लिए बाजारों के चक्कर काटना पड़ता है क्योंकि यह सामान बड़ी-बड़ी ऑनलाइन शॉपिंग एप के जरिए भी उपलब्ध नहीं हो सकता। इसलिए न चाहते हुए भी बाजार जाना ही पड़ता है, लेकिन अब शहर का बाजार ऑनलाइन आ जाने से बहुत आराम मिल सकेगा। 

वहीं इस बारे में अभिभावक दिव्या गुप्ता (35 वर्ष) कहती हैं, “स्कूल में कभी इस किताब की जरूरत तो कभी किसी ड्रेस की, कभी स्टेशनरी की तो कभी अन्य सामान की जरूरत होती ही है। बच्चों को तो समझाया ही नहीं जा सकता क्योंकि एक-दो दिन के अंदर सामान स्कूल नहीं भेजा गया तो उनको डांट पड़ने का डर है। 

इसलिए घर में चाहे कितना काम हो या खुद बीमार हो, सामान लेने बाजार जाना ही पड़ता था और बाजार जाकर दुकानों के चक्कर लगाने पड़ते थे, लेकिन अब घर बैठकर आसानी से सामान मंगवाये जा सकेंगे क्योंकि कम्प्यूटर और मोबाइल में हर समय एप के जरिए दुकान मौजूद है और इसको घर में कोई न कोई तो ऑपरेट कर ही लेगा।” 

एवरीथिंग एप लॉन्च करने वाली कंपनी की सीईओ संजना गर्ग ने कहा कि ऐसा लखनऊ के लिए ही नहीं किया गया है बल्कि देश के कई अन्य शहरों के बाजारों को भी इसमें जोड़ा गया है, जिससे हर शहर का व्यक्ति अपने लोकल बाजार से भी घर बैठे आसानी से सामान खरीद सके।

इसमें बच्चों के सेलेबस के साथ फैशन, राशन से लेकर गृहस्थी और लोगों के जरूरत का हर सामान मौजूद है। उन्होंने बताया कि सामानों की डिलीवरी जरूरत के आधार पर कम से कम एक और ज्यादा से ज्यादा तीन दिन के अंदर की जाएगी। साथ ही प्वाइंट भी दिए जाएंगे, जिसको  एकत्र करने के बाद लोग इससे रीचार्ज वगैरह कर सकते हैं। हमने सामानों की जो फोटो और दाम जो भी दर्शाए हैं उनमें कोई समझौता नहीं किया जाएगा और पसंद न आने पर वापसी भी आसानी से की जा सकेगी। 

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top