स्कूटी चलाएंगी 'बा' की बेटियां

स्कूटी चलाएंगी बा की बेटियां

गोरखपुर। कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय 'बा' की बालिकाएं भी बालकों के साथ कदम से कदम मिलाकर चलेंगी। वह भी अब स्कूटी और साइकिल चलाएंगी। विद्यालयों में विविध शिविर के माध्यम से उनके व्यक्तित्व का भी विकास किया जाएगा, जिसमें स्कूटी चलाना भी सिखाया जाएगा। इसके लिए सर्व शिक्षा अभियान के राज्य परियोजना निदेशक ने समस्त जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी कर दिया है। 

सर्व शिक्षा अभियान के जिला समन्वयक विवेक जायसवाल के अनुसार, निदेशक के निर्देशानुसार तैयारी शुरू कर दी गई है। पढ़ाई के अतिरिक्त पांच गतिविधियों के जरिए छात्राओं का कौशल विकास किया जाएगा। इसके लिए शासन ने बजट के रूप में माडल वन स्कूल को एक लाख और माडल-टू स्कूल को 50 हजार रुपये स्वीकृत कर दिया है। साइकिल व स्कूटी प्रशिक्षण के लिए जिलाधिकारी के अनुरोध पर व्यावसायिक घरानों से अनुदान लिया जाएगा। परिवहन विभाग की अधिकृत महिला प्रशिक्षक प्रशिक्षण देंगी। 

पहली गतिविधि में शामिल जीवन कौशल शिविर पांच दिन का होगा। इसमें बाल-विवाह रोकना और स्वास्थ्य से लगायत 16 बिंदुओं पर प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके लिए सात विशेषज्ञों की आवश्यकता होगी। जिसमें महिला चिकित्सक, पुलिस, वकील, सामाजिक कार्यकर्ता, आपदा प्रबंधन और रेडक्रास से संबंधित विशेषज्ञों को बुलाया जाएगा। खेलकूद में खो-खो, कबड्डी, वॉलीबाल, जूडो, बैडमिंटन, धीमी साइकिल और साइकिल दौड़ तथा स्कूटी चलाने का भी प्रशिक्षण दिया जाएगा। यही नहीं, तीन दिवसीय स्काउट-गाइड का प्रशिक्षण कैंप भी लगेगा। बालिकाओं को इसका प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। जिले में 19 कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय संचालित हैं।

थियेटर कार्यशाला

बालिकाओं को थियेटर विधा की जानकारी भी दी जाएगी, जिससे उनके आत्म विश्वास, अभिव्यक्ति, रचनात्मक क्षमता, समायोजन, समन्वय और तनाव प्रबंधन के गुर का विकास हो सके। इसके लिए प्रशिक्षित रंगकर्मी विशेषज्ञ के रूप में रखे जाएंगे।

पांच गतिविधियां

जीवन कौशल शिविर, थियेटर कार्यशाला, स्काउट-गाइड प्रशिक्षण, खेलकूद प्रतियोगिता और साइकिल व स्कूटी सीखनें का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top