समाजवादी पेंशन पर भारी एड्स रोगियों की पहचान

समाजवादी पेंशन पर भारी एड्स रोगियों की पहचानगाँव कनेक्शन

कन्नौज। जिला समाज कल्याण अधिकारी के कार्यालय में तैनात एक बाबू एड्स रोगी के मोबाइल पर संपर्क करता है कि आपको समाजवादी पेंशन योजना का लाभ दिया जाना है, जो आपके खाते में जाएगी, इसलिए आप अपना बैंक खाता दे दीजिए। संबंधित व्यक्ति ने जैसे ही एड्स की बात सुनी तो उसका पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया, वह बाबू को गाली देने लगा। बाबू ने तुरंत फोन काट दिया। 

एड्स रोगियों की सूची हाथ में लेकर बाबू ने दूसरे रोगी को फोन लगाया, उसने भी अपशब्द कहें। तीसरे रोगी ने कह दिया कि गलत नंबर डायल कर दिया गया है। आगे भी कई रोगियों ने बाबू को अपशब्द कहें तो कुछ ने बात सुनकर नंबर बंद कर दिया। कुछ ने नंबर गलत लगाने की बात कही। यह सुनकर समाज कल्याण विभाग का बाबू काफी परेशान है। यह हाल है जिले के एड्स रोगियों को समाजवादी पेंशन का लाभ देने की योजना का। 

यह मामला किसी एक रोगी का नहीं है। तकरीबन जिनसे फोन पर संपर्क हुआ सभी ने मिलता जुलता व्यवहार किया। इससे किसी भी एड्स रोगी को समाजवादी पेंशन का लाभ मिलता नहीं दिख रहा है, लगता है कि पेंशन पर एड्स रोगियों की गोपनीयता भारी पड़ रही है। कन्नौज के जिला समाज कल्याण अधिकारी शैलेंद्र कुमार गौतम बताते हैं, ''समाजवादी पेंशन का लाभ दिलाने के लिए सरकार का जोर है। प्रशासन भी चाह रहा है कि पात्रों को लाभ दिया जाए।

योजना ऑनलाइन हो गई है। लाभार्थी के बैंक खाते में भुगतान भेजा जाता है। सूची के हिसाब से मोबाइल नंबरों पर संपर्क किया गया। उन लोगों ने अभद्रता पूर्ण व्यवहार किया। जब तक बैंक खाते नहीं आ जाते लाभ दिया जाना मुश्किल है। पात्रता के बाद जो अभिलेख लगते हैं, उनका होना भी जरूरी है। सूची वह है जो लोग स्वास्थ्य विभाग से उपचार करा रहे हैं। यह गलत नहीं हो सकती है।''

ये है योजना

समाजवादी पेंशन योजना मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुरू की है। योजना शुरू होने के बाद और करीब एक साल पहले शासनादेश जारी हुआ कि जिन जिलों में एड्स रोगी हैं, उनको वरीयता के हिसाब से पेंशन योजना में शामिल कर लाभ दिया जाए। सूची स्वास्थ्य विभाग से ली जाए। इसी के तहत जिले में 166 रोगियों की सूची उपलब्ध हुई है।

रिपोर्टर - मोहित मिश्र

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top