स्मार्टफोन वायरस के जरिए भारतीय सुरक्षा बलों की जासूसी कर रही आईएसआई

स्मार्टफोन वायरस के जरिए भारतीय सुरक्षा बलों की जासूसी कर रही आईएसआईgaonconnection, स्मार्टफोन वायरस के जरिए भारतीय सुरक्षा बलों की जासूसी कर रही आईएसआई

नई दिल्ली (भाषा)। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी मोबाइल म्यूजिकल एप्लीकेशन और मोबाइल गेमिंग के जरिए भारतीय सुरक्षा बलों की जासूसी कर रही है। ये जानकारी लोकसभा में गृह राज्य मंत्री हरिभाई पारथीभाई चौधरी ने एक सवाल के लिखित उत्तर में दी।

मंत्री ने बताया, ''ऐसी रिपोर्ट है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी मोबाइल एप के जरिए वायरस भेजकर भारतीय सुरक्षा बलों की निगरानी कर रही है। इन मोबाइल एप में टाप गन, एमपीजंकी, वीडीजंकी, टाकिंग फ्रोग जैसे एप शामिल हैं।''

उन्होंने बताया, ''पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी रोजगार मुहैया कराने और वित्तीय मदद के नाम पर पूर्व सैनिकों को जासूसी के जाल में फंसाने की कोशिश कर रही है।''

उन्होंने बताया कि साल 2012-13 के दौरान आईएसआई के लिए जासूसी के आरोप में सात पूर्व सैनिकों को गिरफ्तार किया गया था। गृह राज्य मंत्री ने बताया, ''भारतीय सुरक्षा बलों को इस बारे में बताया जाना चाहिए है कि आईएसआई संदिग्ध स्मार्टफोन एप्लीकेशन के जरिए इस काम को अंजाम दे रही है।'' उन्होंने बताया कि इसके अलावा, सरकार ने सभी मंत्रालयों और विभागों को कम्प्यूटर सुरक्षा नीति के संबंध में नीति और निर्देश जारी किए हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top