संगीतकारों को अभिनेताओं के बराबर माना जाना चाहिए: आयुष्मान

संगीतकारों को अभिनेताओं के बराबर माना जाना चाहिए: आयुष्मानgaonconnection

नई दिल्ली (भाषा)। अभिनेता-गायक आयुष्मान खुराना यह बात बहुत हताश करने वाली लगती है कि भारत में बहुत प्रतिभाशाली होने के बावजूद संगीतकारों को बॉलीवुड के अभिनेताओं के बराबर नहीं माना जाता है।

आयुष्मान का मानना है पश्चिम की तरह भारत में भी कलाकारों को बढ़ावा देने के लिए स्वतंत्र संगीत को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। आयुष्मान ने कहा, ‘‘यह बहुत हताश करने वाली बात है कि अभिनेताओं का दर्जा संगीतकारों से ऊपर है। उन्हें उनका उचित स्थान मिलना चाहिए और उन्हें अभिनेताओं से ऊपर नहीं तो उनके बराबर माना जाना चाहिए।''

उन्होंने कहा, ‘‘भारत में, क्रिकेट और सिनेमा दो बड़ी वास्तविकता है लेकिन मुझे मेरा मानना है कि समय बदलना चाहिए और वे भी बदलेंगे। यह बदलाव संगीत पर निर्भर करता है। अभी, हमारे देश में संगीत मुख्य रूप से बॉलीवुड पर निर्भर है। अभी भी स्वतंत्र संगीत लोकप्रिय नहीं है। हमारी फिल्में में गाने और नृत्य हैं। पश्चिम में ऐसा नहीं है। अमेरिका की यात्रा से लौटे आयुष्मान ने कहा कि वहां के लोगों को बॉलीवुड फिल्मों और गानों से जुड़े देखकर उन्हें बहुत आश्चर्य हुआ था।

 

Tags:    India 
Share it
Top