संवेदनशीलता से कार्य करें अधिकारी: मुख्य विकास अधिकारी

संवेदनशीलता से कार्य करें अधिकारी: मुख्य विकास अधिकारीगाँव कनेक्शन

झाँसी। जनपद में सूखे की स्थिति को ध्यान में रखते हुये मुख्य विकास अधिकारी संजय कुमार ने अधिकारियों को संवेदनशील होकर ग्रामीणों को लाभान्वित करने के निर्देश दिए है।

विकास कार्यो की मासिक समीक्षा करते हुये उन्होंने कहा, ‘‘लाभकारी योजना में उपलब्ध धनराशि के व्यय हेतु रणनीति तय की जाए। जिससे उपलब्ध राशि वित्तीय वर्ष में ही शत-प्रतिशत व्यय होने पर जरूरतमंदों को लाभ प्राप्त हो सके।’’ 

विकास भवन सभागार में बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्य विकास अधिकारी ने अनुपस्थित परियोजना निदेशक डीआरडीओ, अधिशासी अभियन्ता पीएमजीएसबाई, यूपीपीसीएल तथा समाज कल्याण निर्माण निगम को स्पष्टीकरण दिए जाने के कड़े निर्देश देते हुए कहा कि स्पष्टीकरण का उत्तर सन्तोषजनक न होने पर कार्यवाही की संस्तुति भी की जाएगी। 

निर्माण कार्यों के सम्बन्ध में कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि उन्होंने टीम गठित कर गुणवत्ता की जांच तथा सम्पर्क मार्ग एवनी, गुढा की गुणवत्ता परखने के निर्देश के साथ ही जांच तीन सदस्यीय दल द्वारा कराये जाने, सी एण्ड डीएस द्वारा निर्माणाधीन मॉडल स्कूल ग्राम पिपरा, चिरगांव तथा ग्राम कुम्हार मोंठ की गुणवत्ता जांच हेतु टीम गठित किए जाने, राशन कार्ड वितरण की जांच हेतु रैण्डमली चार प्रधानों का चयन कर वितरण का सत्यापन कराये जाने के निर्देश दिए।

मुख्य विकास अधिकारी ने कहा, ‘‘राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अन्तर्गत खाद्यान्न वितरण में पारदर्शिता के साथ संवेदनशीलता भी जरूरी है।’’ 

उन्होंने पात्रों की सूची सार्वजनिक स्थल पर चस्पा किये जाने का सुझाव दिया। जिससे ग्रामीण लाभार्थियों के सम्बन्ध में जान सकें। योजना का लाभ पात्र को ही दिये जाने के निर्देश दिए।

डॉ. राममनोहर लोहिया समग्र विकास ग्राम की समीक्षा करते हुये उन्होंने कहा, ‘‘लक्षित ग्राम समय सीमा में ही संतृप्त हो इसके लिए रणनीति बना कर कार्य करें।’’

राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण परियोजना की प्रगति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए सुधार कर शीध्र कार्य पूर्ण कराये जाने के निर्देश देते हुये उन्होंने आन्तरित गलियों में सीसी रोड तथा केसी ड्रेन के कार्यों की जांच के निर्देश देते हुये कहा, ‘‘वर्ष 2015-16 के चार गाँव अवशेष है, जिन्हें शीध्र पूर्ण करने हेतु कार्य प्रारम्भ कराये जाए।’’ 

इन्दिरा आवास की समीक्षा करते हुये उन्होंने समग्र ग्राम में 128 में 93 आवासों का निर्माण पूर्ण किये जाने पर कड़ी नाराजगी जतायी। ग्ररसरायं व मोंठ में इन्दिरा आवास की स्थिति पर भी असंतोष व्यक्त किया। स्वच्छ शौचालय निर्माण वर्ष 2015-16 के कार्यो की गुणवत्ता जांचने हेतु मुख्य विकास अधिकारी ने निर्देश दिए।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top