सोशल मीडिया चौपाल

सोशल मीडिया पर शोर मचा रहे हैं मोर-मोरनी, जानिए क्यों?

लखनऊ। बुधवार को राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने एक ऐसा बयान दिया, जिस पर सोशल मीडिया में अलग-अलग तरीके से चर्चा हो रही है, आप भी पढ़िए लोगों ने इस बयान को किस तरह लिया।

जानिए क्या था मुद्दा

राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने एक न्यूज चैनल से बातचीत कहा था कि, 'भगवान कृष्ण जब धरती पर आए तो उन्होंने आने से पहले वृंदावन में गाय को उतारा, गोवर्धन में गाय को उतारा...उन्हें पता था कि हमारा जो वैद्य होगा, जो डॉक्टर होगा वह गाय ही होगी। गाय के दूध से सब प्रकार की बीमारियां समाप्त होती हैं...सात्विक प्रवृत्ति बढ़ती है, धार्मिकता बढ़ती है। यह गाय के दूध के महत्व की बात है। उन्होंने कहा कि गाय मरने के बाद भी काम आती है। गाय का गोबर भी काम आता है। गाय का मूत्र भी काम आता है। गाय का दूध, हड्डियां भी काम आती हैं। तांत्रिक प्रयोग के लिए भी गाय काम में आती है।' इसलिए इसे राष्ट्रीय पशु घोषित करना चाहिए।

ये भी पढ़ें : ...तो इसलिए आमिर सोशल मीडिया पर नहीं रहते एक्टिव

क्या कहा था मोर को लेकर

अपनी इस बातचीत में उन्होंने मोर को ब्रम्हचारी भी घोषित कर दिया। उन्होंने कहा, 'हमने मोर को राष्ट्रीय पक्षी क्यों घोषित किया क्योंकि मोर आजीवन ब्रह्मचारी रहता है। मोर के जो आंसू आते हैं, मोरनी उसे चुग कर गर्भवती होती है। मोर कभी भी मोरनी के साथ सेक्स नहीं करता। मोर पंख को भगवान कृष्ण ने इसलिए लगाया क्योंकि वह ब्रह्मचारी हैं। साधु संत भी इसलिए मोर पंख का इस्तेमाल करते हैं। मंदिरों में इसलिए मोर पंख लगाया जाता है। ठीक इसी तरह गाय के अंदर भी इतने गुण हैं कि उसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए।' हम आपको बता दें कि महेश चंद्र शर्मा की कही यह बात सिर्फ एक भ्रांति है। जबकि वास्तविकता यह है कि मोरनी मोर के साथ सहवास करके ही गर्भवती होती है।

सोशल मीडिया पर इस तरह उड़ा मज़ाक

जस्टिस शर्मा पर कटाक्ष उड़ाते हुए एक ट्विटर यूजर ने ट्वीट किया - मोरनी ने तब मोर पर हमला कर दिया जब मोर ने कहा, 'पुष्पा... आई हेट टियर्स'।

ट्विटर यूजर मनोज झा ने लिखा जहां आज भारत में भूख, गरीबी, रोजगार जैसे तमाम मु्द्दे हैं जिन पर बात होनी चाहिए लेकिन यहां मोर के अंतरंग व्यवहार पर बातें हो रही हैं।

इन्होंने तो भारत का सही विकास न होने पर ही चुटकी ले ली।

ट्विटर यूजर अरुण सर्राफ ने तो जस्टिस महेश चंद्र शर्मा द्वारा लिए गए फैसलों पर ही सवाल उठा दिया।

ट्विटर सागर तंवर ने गाय और मोर पर हो रही इस लड़ाई में आप के बर्खास्त विधायक कपिल शर्मा को भी खींच लिया।

अजय मिश्रा की ये बात तो क्या वाकई सच है...

बात तो जायज है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।