दुनिया भर की महिलाएं बता रही हैं अपने साथ हुई यौन हिंसा की कहानियां... 

दुनिया भर की महिलाएं बता रही हैं अपने साथ हुई यौन हिंसा की कहानियां... प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ। हॉलीवुड अभिनेता हार्वे वेनिंस्टन पर लगे यौन शोषण के आरोपों की चर्चा दुनिया भर में हो रही है। इसी के कारण सोशल मीडिया में एक आंदोलन शुरू हो गया है जो लोगों को बुला रहा है कि वे भी अपने साथ हुए यौन शोषण पर बोलें, सिर्फ दो सरल शब्दों में, और लिखें - #MeToo यानि मैं भी। अमेरिकी अभिनेता हार्वे पर कई अभिनेत्रियों ने यौन हिंसा का आरोप लगाया है और लोगों से अपील की है कि वे भी आगे आएं और अपने बारे में लिखें। इतना लिखें कि ऑस्कर बोर्ड अपने पैनल से वेनिंस्टन को निकाल दे।

रविवार को अभिनेत्री एलिसा मिलानो ने एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने लिखा - एक दोस्त के द्वारा प्रस्तावित किया हुआ : अगर सारी महिलाएं यौन शोषण या हिंसा का शिकार हुई हैं तो स्टेटस में लिखें - #MeToo, हो सकता है कि हम लोगों को इस समस्या की भयवहता का अंदाज़ा दिला सकें। अगर आपके साथ भी ऐसा हुआ है तो मेरे ट्वीट के रिप्लाई में भी #MeToo लिखें। एलिसा मिलानो के इस ट्वीट का दुनिया भर के लोगों ने समर्थन किया। सिर्फ सेलेब्रिटीज ही नहीं दुनिया भर की आम महिलाओं व पुरुषों ने उनकी इस पहल का स्वागत किया और उन्हें रिप्लाई किया।

ये भी पढ़ें- सत्तर फीसदी महिलाएं कार्यस्थल पर होने वाले यौन शोषण की शिकायत नहीं करतीं: एनसीडब्ल्यू

आज भारत में भी ये #MeToo ट्रेंड कर रहा है। ट्विटर और फेसबुक पर लोग इस हैशटैग के साथ यौन हिंसा, उत्पीड़न और दुर्व्यहार के बारे में लिख रहे हैं। अब तक दुनियाभर के 34 हज़ार लोग उनके ट्वीट पर रिप्लायी कर चुके हैं व लगभग 13 हज़ार लोग इसे रीट्वीट कर चुके हैँ।

#MeToo हैशटैग के साथ अब तक 200,000 से ज़्यादा ट्वीट हो चुके हैं। कुछ महिलाएं सार्वजनिक स्थानों पर अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में बता रही हैं तो कुछ अपने परिवार के लोगों के द्वारा ही शोषित होनी की कहानी कह रही हैं। आप भी देखिए कुछ ट्वीट्स

सारा ने लिखा - जब ऐसा हुआ, उस समय कैसा महसूस हुआ मैं इसे समझा नहीं सकती। ये शर्म, डर और जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी भूल जाने की चाहत वाली भावना थी। #metoo

रितुपर्णा चटर्जी ने लिखा -यदि आप एक ऐसे व्यक्ति हैं जो #metoo कहानियों के बारे में पढ़े हुए अभिमान महसूस कर रहे हैं, अपनी चुप्पी को तोड़ दें, सहयोगी बनें, हमें बताएं कि क्यों आपके साथ क्यों?

ये भी पढ़ें- कांच वाले दफ्तरों में ही नहीं गांवों में महिलाएं कार्यस्थल पर यौन हिंसा का शिकार होती हैं...

कार ने लिखा - यौन उत्पीड़न के आंकड़े कम हैं क्योंकि लोग इसकी रिपोर्ट नहीं करते हैं। यह हम जितना जानते हैं उससे कहीं ज़्यादा होता है। #MeToo

शैमुएल ब्राउन ने लिखा - जो भी #MeToo के साथ ट्वीट कर रहा है, मैं आपको बताना चाहती हूं कि आप बहुत साहसी हैं, ये आपकी गलती नहीं है और मुझे आप पर विश्वास है।

स्विफ्ट स्पेस नामक ट्विटर यूजर ने लिखा -

नहीं, लड़की फूहड़ नहीं थी

नहीं, स्कर्ट उत्तेजक नहीं था

नहीं, लड़की फ्लर्टिंग नहीं थी

लड़की समस्या नहीं थी, समाज है

गीस्टरवांड नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा -जब मैं 14 साल का था, तब मेरे साथ बलात्कार हुआ था और मैंने इसके बारे में किसी को नहीं बताया क्योंकि मैं एक आदमी हूँ और वह एक महिला है और कोई भी मुझे गंभीरता से नहीं लेगा। #MeToo

Share it
Top