बीएमडब्ल्यू लेने से दीपा कर्माकर का इनकार

बीएमडब्ल्यू लेने से दीपा कर्माकर का इनकाररियो ओलम्पिक में पदार्पण के साथ जिम्नास्टिक्स के फाइनल में पहुंचने वाली दीपा (23 वर्ष) कर्माकर भारत की पहली एथलीट रहीं और मामूली अंतर से वह पदक से चूकीं। उन्हें स्पर्धा में चौथा स्थान प्राप्त हुआ।

अगरतला (आईएएनएस)| रियो ओलम्पिक में देश के नाम रोशन करने वाली महिला जिम्नास्ट दीपा कर्माकर हैदराबाद जिला बैडमिंटन संघ के अध्यक्ष द्वारा पुरस्कार स्वरूप दी जाने वाली बीएमडब्ल्यू कार को लेकर पशोपेश में फंस गई हैं।

रियो ओलम्पिक में मामूली अंकों के अंतर से कांस्य पदक से चूक गईं दीपा को रजत पदक विजेता बैडमिंटन खिलाड़ी पी. वी. सिंधु और कांस्य पदक विजेता महिला पहलवान साक्षी मलिक के साथ हैदराबाद जिला बैडमिंटन संघ के अध्यक्ष वी. चामुण्डेश्वरनाथ ने अगस्त में बीएमडब्ल्यू कार भेंट की थी।

दीपा ने हालांकि मीडिया में आई उन खबरों का खंडन किया था कि वह भेंट में मिली कार चामुण्डेश्वरनाथ को लौटाना चाहती हैं। बल्कि उन्होंने कहा कि वह त्रिपुरा में इस महंगी कार के रखरखाव और मरम्मत की सुविधा न होने के कारण वापस कर रही हैं।

त्रिपुरा में बीएमडब्ल्यू का न तो कोई शोरुम है और न ही कोई सर्विस सेंटर। अगर कार चलाते समय इसमें कोई गड़बड़ी हो जाती है तो मैं उसका मरम्मत कैसे करवाऊंगी? अगरतला या इस पर्वतीय प्रदेश में में इस कार के चलने के लिए अच्छी सड़कें भी नहीं हैं।
दीपा कर्माकर महिला जिम्नास्ट

दीपा ने कहा, "मेरे कोच बिशेश्वर नंदी ने चामुण्डेश्वनाथ से इन सब बातों पर चर्चा की। उन्होंने मुझे भेंट की गई कार की कीमत के बराबर धनराशि मेरे बैंक खाते में जमा करवाने पर सहमति व्यक्त की है। वह हमें इस बीएमडब्ल्यू कार के बदले जो भी राशि भेंट करेंगे हमें खुशी होगी।"

अगरतला की रहने वाली दीपा ने कहा कि उन्होंने यह फैसला खुद नहीं लिया है बल्कि कोच और परिवार के सभी सदस्यों से विचार-विमर्श के बाद उन्होंने यह निर्णय लिया।

दीपा ने अपनी आगे की तैयारियों के बारे में बताया, "अब मैं एक महीने बाद जर्मनी में होने वाली चैलेंजर्स कप की तैयारियों में जुट गई हूं। कोच सर ने मुझे भेंट में मिली महंगी चीजों के बारे में चिंता करने की बजाय अपना पूरा ध्यान आगामी चुनौतियों पर केंद्रित करने की सलाह दी है।"

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top