न्यूजीलैंड पर भारी पड़े भुवनेश्वर और शमी

न्यूजीलैंड पर भारी पड़े भुवनेश्वर और शमीभारतीय टीम जश्न मनाते हुए।

कोलकाता (भाषा)। भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी ने न्यूजीलैंड के शीर्ष क्रम को झकझोर दिया जिससे मेहमान टीम ने दूसरे क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन स्टंप तक सात विकेट के नुकसान पर 128 रन बना लिये हैं। पिच पर विकेट कीपर वाटलिंग 12 रन बनाकर और जीतेन पटेल पांच रन बनाकर डटे हुए हैं।

शनिवार को बारिश के कारण खेल को कुछ देर के लिए रोक देना पड़ा और बाद में बारिश रुकने पर चाय ब्रेक जल्दी लिया गया। भुवनेश्वर कुमार ने शनिवार को घातक गेंदबाजी का नजारा पेश किया और पांच विकेट लिये। एक विकेट रविंद्र जडेजा और एक विकेट मोहम्मद शामी ने लिये।

शनिवार को भारत की पहली पारी 316 रन पर सिमट गयी। पहली पारी में भारतीय स्कोर का पीछा करते हुए न्यूजीलैंड के कार्यवाहक कप्तान रास टेलर 36 रन बनाकर आउट हुए। टेलर को भवुनेश्वर कुमार ने आउट किया। भुवी ने 33वें ओवर के शुरुआती दो गेंद पर दो विकेट लेकर न्यूजीलैंड की कमर तोड़ दी। पहले माइकल सेनेटर को 11 के स्कोर पर पगबाधा आउट किया फिर अगली गेंद पर हेनरी को शून्य के स्कोर पर आउट किया।

कोलकाता के इडेन गार्डन में मैच के दौरान जश्न मनाते भारतीय कप्तान विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे

फार्म में चल रहे ल्यूक रोंची बारिश आने से तुरंत पहले 35 रन पर रविंद्र जडेजा की गेंद पर पगबाधा आउट हो गये। हालांकि उन्हें आउट देने वाला फैसला संदेहास्पद रहा। लंच के तुरंत बाद न्यूजीलैंड ने 23 रन पर तीन विकेट गंवा दिये थे जिसमें भुवनेश्वर (20 रन देकर दो विकेट) ने हेनरी निकोल्स को बोल्ड किया। टेलर और रोंची (35) ने भागीदारी करने का पूरा प्रयास किया लेकिन यह ज्यादा लंबी नहीं रही और जडेजा ने इसे 62 रन से आगे नहीं बढ़ने दिया। जडेजा ने अपनी कोण लेती गेंद पर रोंची को पगबाधा आउट किया, हालांकि ऐसा लग रहा था कि गेंद लेग स्टंप की ओर थी लेकिन अंपायर रॉड टकर ने भारत को यह विकेट भेंट स्वरुप दे दिया। रोंची की पारी हालांकि 16 रन पर ही समाप्त हो जाती लेकिन स्थानापन्न खिलाड़ी गौतम गंभीर ने प्वाइंट पर उनका कैच छोड़ दिया था। तभी काले बादल छा गये और तेज बारिश आने लगी जिससे मैच में समय से पहले चाय ब्रेक लेना पडा।

भारत की पहली पारी के जवाब में उतरी मेहमान टीम ने सलामी बल्लेबाजों टाम लाथम (01) और मार्टिन गुप्टिल (13) के विकेट सस्ते में गंवा दिये। शमी और भुवनेश्वर ने लगातार ओवरों में इनके विकेट हासिल किये।

शमी ने अपने पहली ही ओवर में लाथम को पगबाधा आउट किया। वहीं गुप्टिल की बल्ले से खराब फार्म जारी रही, वह तीसरे ओवर में भुवेश्वनर की गेंद पर बोल्ड हो गये। गेंद इस बल्लेबाज की कोहनी से लगी और स्टंप उखाड़ते हुए चली गयी। इससे पहले विकेटकीपर रिद्धिमान साहा (नाबाद 54 रन) के अर्धशतक से भारत ने पहली पारी में 316 रन बनाये।

शार्ट पिच गेंदों के आगे साहा डटकर बल्लेबाजी करते रहे, जिससे उन्होंने बीती रात के नाबाद 14 रन के स्कोर को अर्धशतक में तब्दील किया। उन्होंने अपने कैरियर का तीसरा अर्धशतक जमाया जिससे टीम ने कल के 86 ओवर में सात विकेट पर 239 रन के स्कोर में अच्छी प्रगति की। साहा इससे पहले एक शतक और दो अर्धशतक बना चुके थे और भारतीय सरजमीं में उनका यह पहला अर्धशतक टीम के लिये अहम मौके पर आया है जब टीम पर 250 रन के अंदर सिमटने का खतरा मंडरा रहा था।

दो स्थानीय खिलाडियों साहा और शमी ने अंतिम विकेट के लिये 35 रन जोडे जो उन्होंने महज 31 गेंद में बनाये। लेकिन शमी फाइन लेग पर मैट हैनरी को कैच देकर आउट हो गये और टीम 104।5 ओवर में सिमट गयी। साहा ने इससे पहले जडेजा (14) के साथ 41 रन की भागीदारी निभायी जिन्होंने कानपुर टेस्ट में अर्धशतक जमाया था। जडेजा अपनी पारी को बड़ी नहीं कर सके और नील वैगनर ने दिन के 11वें ओवर में उन्हें पवेलियन भेजा।

इससे पिछले ओवर में जडेजा ने स्पिनर मिशेल सैंटनर की गेंद पर छक्का जड़ा था लेकिन वैगनर की गेंद को पुल करने के प्रयास में विकेट गंवा बैठे क्योंकि गेंद सीधे फाइन लेग पर खडे हैनरी के हाथों में समां गयी। भारतीय टीम का स्कोर जल्द ही नौ विकेट पर 281 रन हो गया लेकिन साहा और शमी ने सुनिश्चित किया कि टीम 300 रन का आंकडा पार कर ले।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top