क्या ये बड़े खिलाड़ी अपनी टीम को जीता पाएंगे वर्ल्ड कप

14 जून से रूस में शुरू हो रहे फुटबाल विश्व कप में सभी बड़े खिलाड़ियों पर सबकी नजरें होंगी। इन खिलाड़ियों ने खेल से सभी का दिल जीता है, लेकिन अभी तक अपने देश से खेलते हुए वर्ल्ड कप जिताने में सफल नहीं हो पाएं हैं।

Imran KhanImran Khan   2 Jun 2018 12:29 PM GMT

क्या ये बड़े खिलाड़ी अपनी टीम को जीता पाएंगे वर्ल्ड कप

ओह, वाव, ये गोल, वो जीता, ये हारा, रूस के स्टेडियमों से दर्शकों के मुंह से कुछ ऐसे ही शब्द सुनाई देने वाले हैं। 14 जून से रूस में शुरू हो रहे फुटबाल विश्व कप में सभी बड़े खिलाड़ियों पर सबकी नजरें होंगी। इन खिलाड़ियों ने खेल से सभी का दिल जीता है, लेकिन अभी तक अपने देश से खेलते हुए वर्ल्ड कप जिताने में सफल नहीं हो पाएं हैं। जहां फुटबाल इनके इशारों पर नाचती हुई नजर आती है। आधे मैदान से ये खिलाड़ी गोल करने का दम रखते हैं।

लियोनल मेस्सी (कप्तान, अर्जेंटीना)

अर्जेंटीना के रोसारियो शहर में 24 जून 1987 को पैदा हुए लियोनल मेस्सी कौन जानता था, ये आगे चलकर इतना बड़ा स्टार खिलाड़ी बनेगा। दस नंबर की जर्सी पहने हुए जब ये खिलाड़ी दौड़ता है तो सभी की नजरें इस खिलाड़ी पर ठहर जाती है। मेस्सी फारवर्ड में खेलना पसंद करते हैं। मेस्सी ने अभी तक 124 मुकाबले अर्जेंटीना की तरफ से खेले हैं जिसमें उन्होंने 64 गोल दागे हैं। 2014 विश्व कप फाइनल मुकाबले में अर्जेंटीना को हार का मुंह देखना पड़ा था।


मुकाबला बराबरी होने पर दोनों टीमों का एक्स्ट्रा समय दिया गया। सांस रोक देने वाले इस मुकाबले के अंतिम क्षणों में जर्मनी के गोट‍्जे ने सीने पर फुटबाल को रोकते हुए अर्जेंटीना के गोल कीपर को चकमा देते हुए फुटबाल को नेट पर दे मारा मतलब गोल। इससे अर्जेंटीना को चार साल का और लंबा सफर तय करना पड़ा। कोपा कप के फाइनल में चिली के खिलाफ पेनाल्टी चूक जाने पर मेस्सी ने फुटबाल को अलविदा कर दिया था। लेकिन जनता ने उन पर अपना प्यार बनाए रखा और एक बार फिर मेस्सी ने वापसी की। इस बार अर्जेंटीना के इस फारवर्ड खिलाड़ी से लोगों की उम्मीदें बढ़ गईं और मेस्सी पर इसका दबाव। इस खिलाड़ी के सिर पर अभी वर्ल्डकप का ताज नहीं सजा है। मेस्सी की यही कोशिश रहेगी कि वह वर्ल्ड कप जीतें अपना और अपने देश का मान बढ़ाएं। अर्जेंटीना विश्व कप में पहला मैच 16 जून को आइसलैंड के खिलाफ खेलेगी।

टीम अर्जेंटीना

गोलकीपर्स: सर्गियो रोमेरो, विल्फ्रेडो काबालेरो, फ्रांको अमार्नी।

डिफेंडर्स: गेब्रिएल मासेर्डो, जेवियर मास्चेरानो, निकोल्स ओटामेंडी, फेडरिको फाजियो, माकोर्स रोजो, निकोल्स टागलियाफिको, क्रिस्टियन एंसाल्डी, माकोर्स अकुना।

मिडफील्डर्स: लुकास बिगलिया, एडुआर्डो साल्वियो, एवेर बानेगा, एंगेल डी मारिया, मैनुएल लांजीनी, गियोवानी लो सेल्सो, मैक्सीमिलियानो मेजा।

फारवर्ड्स: लियोनेल मेसी, सर्गियो अगुएरो, गोंजालो हिगुएन और पाउलो डेबाला।

ग्रुप डी

अर्जेंटीना, क्रोएशिया, नाइजीरिया, आइसलैंड

क्रिस्टियानो रोनाल्डो (कप्तान, पुर्तगाल)

सीआर-7 मतलब क्रिस्टियानो रोनाल्डो फुटबाल की दुनिया का बेताज बादशाह कहा जाए तो कम नहीं होगा। 05 फरवरी 1985 को पुर्तगाल के फंकल मदेरा शहर में जन्मे रोनाल्डो आज दुनिया के मशहूर फुटबालर हैं। पुर्तगाल की ओर से खेलते हुए रोनाल्डो ने अब तक 149 मैचो में 81 गोल किए हैं। रोनाल्डो अपनी टीम से फारवर्ड पोजीशन पर खेलते हैं। देखा जाए तो गोल कीपर के पास रोनाल्डो को कोई तोड़ नहीं होता कब कहां से ये 7 नंबर जर्सी पहने खिलाड़ी गोल दाग दे पता नहीं।


रोनाल्डो भी मेस्सी की तरह अपनी टीम को वर्ल्ड कप जीताने में नाकामयाब रहे हैं। जबरदस्त खेल के बावजूद भी वर्ल्डकप ताज से इनका सिर सूना है। रोनाल्डो ने अब तक तीन विश्व कप खेले हैं और सुपरस्टार का यह आखिरी विश्व कप भी हो सकता है। ऐसे में दुनिया भर के फुटबाल प्रशंसकों की नजरें इस महान खिलाड़ी पर टिकी होंगी क्योंकि वह खुद भी ट्रॉफी के साथ विश्व कप को अलविदा कहना चाहेंगे। पुर्तगाल विश्व कप में पहला मैच 15 जून को स्पेन के खिलाफ खेलेगी।

टीम : पुर्तगाल

गोलकीपर : एंथोनी लोपेस, बेटो और रुई पैट्रीसियो।

डिफेंडर : ब्रूनो आल्वेस, सेड्रिक सोआरेस, जोसे फोंते, मारियो रुई, पेपे, राफेल गरेरो, रिकाडरे परेरा, रुबेन दियास।

मिडफील्डर : आंद्रेस सिल्वा, ब्रूनो फर्नाडेस, जाओ मारियो, जाओ मोटिन्हो, मैनुअल फर्नाडेस, विलियम कार्वाल्हो।

फारवर्ड : आंद्रे सिल्वा, बर्नाडो सिल्वा, जेल्सन मार्टिन्स, गोनकालो गुएडेस, रिकाडरे क्वारेसमा, क्रिस्टियानो रोनाल्डो

ग्रुप बी

पुर्तगाल, इरान, मोरक्को, उरुग्वे


वायने रूनी (कप्तान, इंग्लैंड)

हवा में उछलकर गोल दागना, सुपर मैन की तरह उड़कर गोलकीपर को चकमादेकर गोल दागना इस खिलाड़ी की खासियत है। 24 अक्टूबर 1985 को इंग्लैंड के क्रॉक्सटेथ लिवरपूल शहर में जन्में वायने रूनी आज फुटबाल की दुनिया में बड़ा नाम है। इंग्लैंड टीम की ओर से ये भी फारवर्ड खेलना पसंद करते हैं।


रूनी ने इंग्लैंड की ओर से खेलते हुए 119 मैचों में 53 गोल दागे हैं। यह रूनी का आखिरी वर्ल्ड कप है। रूनी भी अब तक अपनी कप्तानी में इंग्लैंड को वर्ल्ड कप नहीं जिता सके हैं। दुनिया भर के फुटबाल प्रशंसकों की नजरें इंग्लैंड के इस महान खिलाड़ी पर टिकी होंगी क्योंकि रूनी भी खुद विश्व कप ट्रॉफी के फुटबाल को अलविदा कहना चाहेंगे। इंग्लैंड विश्व कप में पहला मैच 18 जून को तुनीसिया के खिलाफ खेलेगी।

टीम इंग्लैंड

गोलकीपर : जेक बटलैंड, जॉर्डन पिकफोर्ड, निक पोप

डिफेंडर : ट्रेंट अलेक्जेंडर-आर्नल्ड, गैरी केहिल, फैबियन डेल्फ, फिल जोन्स, हैरी मैगुएर, डैनी रोज, जॉन स्टोन्स, किएरन ट्रिपियर, काइल वॉकर, एश्ले यंग।

मिडफील्डर : डैली एली, एरिक डायर, जॉर्डन हैंडरसन, जेसे लिंगार्ड, रूबेन लोफ्टस-चीक।

फारवर्ड : हैरी केन, मार्कस रैशफोर्ड, रहीम स्टर्लिग, जेमी वार्डी, डैनी वेल्बेक।

ग्रुप डी

बेल्जीयम, इंग्लैंड, पानामा, तुनीसिया


सर्जियो रामोस ने गीत जारी किया स्पेन का विश्व कप

स्पेन के डिफेंडर सर्जियो रामोस ने स्पेन के 2018 विश्व कप फुटबाल अभियान के लिए विश्व कप गीत जारी किया है। रामोस ने इसे स्पेन के गायक डिमार्को फ्लेमेंसो के साथ मिलकर लिखा है। स्पेन के कप्तान रामोस ने इस गाने का वीडियो टीजर अपने इंस्टाग्राम पेज पर अपलोड किया। इस वीडियो में उन्हें फ्लेमेंसो के साथ गाते हुए दिखाया गया है। इस वीडियो को लगभग 40 लाख बार देखा जा चुका है। रामोस ने वीडियो के साथ लिखा, "मैं हमेशा अपने वादे पूरे करता हूं। इस पर मेरे मत्रि डिमार्को फ्लेमेंसो और मैं काम कर रहे थे। विश्व कप की तैयारी।" "एनदर स्टार इन योर हार्ट" नाम का यह गीत आईट्यून्स और अन्य आनलाइन मंच पर शुक्रवार से उपलब्ध है।






More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top