सरकार का 2017 तक 20,000 मेगावॉट सौर उर्जा उत्पादन का लक्ष्य

सरकार का 2017 तक 20,000 मेगावॉट सौर उर्जा उत्पादन का लक्ष्यgaonconnection

नई दिल्ली। केंद्र सरकार को उम्मीद है कि वो 100 गीगावॉट सौर ऊर्जा क्षमता के लक्ष्य को तय समय से काफी पहले 2017 के अंत तक ही हासिल कर लेगी। हालांकि, इसके लिए 2022 तक की समय सीमा रखी गई है।

बिजली एवं कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने कहा, ''हम साल 2017 के अंत तक ही 100 गीगावॉट सौर ऊर्जा की स्थापित क्षमता के लक्ष्य को हासिल करने लेने पर ध्यान दे रहे हैं।'' उन्होंने कहा कि 31 मार्च को खत्म वित्त वर्ष में पहले ही 19,000 मेगावॉट सौर ऊर्जा उत्पादन क्षमता हासिल कर ली गई है।

गोयल ने कहा, ''जब हमने सत्ता संभाली सौर ऊर्जा क्षमता केवल 2,400 मेगावॉट थी। उस समय राष्ट्रीय सौर ऊर्जा मिशन ने जो लक्ष्य तय किया था वो वर्ष 2021-2022 तक 20,000 मेगावॉट का था। लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बाद में इस लक्ष्य को पांच गुणा बढ़कर साल 2022 तक 100 गीगावॉट यानी एक लाख मेगावॉट तक बढ़ा दिया।''

सरकार ने वर्ष 2022 तक अक्षय ऊर्जा स्रेातों से 2022 तक कुल 175 गीगावॉट बिजली उत्पादन का लक्ष्य रखा है। इसमें 100 गीगावॉट अकेले सौर ऊर्जा से जबकि पवन ऊर्जा के लिए 60 गीगावॉट, बायोमास से 10 गीगावॉट और छोटी हाइड्रोपावर प्रॉजेक्ट्स से पांच गीगावॉट बिजली पैदा करने का लक्ष्य रखा है।

Tags:    India 
Share it
Share it
Share it
Top