Top

सरकारी गोदामों में मई से मिलेंगे बीज

सरकारी गोदामों में मई से मिलेंगे बीजgaoconnection

लखनऊ। किसानों को सस्ती दर पर प्रमाणित बीज खरीदने के लिए अब निजी दुकानों के चक्कर काटने की जरूरत नहीं पड़ेगी। किसान अपना ऑनलाइन पंजीकरण कराकर खरीफ में बोये जाने वाले प्रमाणित संकर बीजों जैसे धान, मक्का और बाजरा आदि के बीजों पर अनुदान पा सकते हैं। 

इस योजना के अंर्तगत पहले किसानों को बीज का बाजार मूल्य अदा करना होता है। उसके बाद अनुदान की राशि सीधे किसानों के खाते में भेज दी जाती है। किसान को सरकार की ओर से प्रमाणित बीज खरीदने पर ही यह लाभ मिल सकेगा। किसान फसल क्षेत्र की उपयुक्त दशा को देखते हुए भी प्रमाणित बीजों की खरीददारी कर सकता है। 

संकर धान, मक्का और बाजरा आदि के बीजों पर अनुदान के लिए अभी से ही अपना पंजीकरण करा लें। बिना पंजीकरण के बीजों पर अनुदान नहीं मिलेगा। जिन किसानों ने अभी तक पंजीकरण नहीं किया है वो पांच मई तक अपना ऑनलाइन पंजीकरण विभाग की  वेबसाइट www.upagriculture.com/ पर कर सकते हैं। 

प्रदेश में संचालित योजनाओं में खरीफ वर्ष 2016 के लिए प्रमाणित बीजों का वितरण सभी जिलों के विकास खण्ड स्थित बीज गोदामों से बीज खरीद सकते हैं। प्रमाणित बीजों का अनुदान किसानों के बैंक खाते में भेज दिया जाएगा। गोदामों पर किसान 08 मई से 30 जून तक किसान बीज खरीद सकते हैं। 

किसानों को अनुदान देने के लिए बत्तीस करोड़ पचास लाख रुपए कृषि विभाग को उपलब्ध कराए गए हैं, जिससे किसानों को इस योजना का लाभ मिल सके। साथ ही प्रदेश में किसानों को संकर बीजों का बढ़ावा देने के लिए शासन को 25 करोड़ रुपये दिए गए हैं।

लखनऊ के उपकृषि निदेशक टीएम तिवारी किसान योजना के बारे में बताते हैं, “पंजीकरण 11 अप्रैल से शुरु हुआ है जो पांच मई तक चलेगा। पंजीकरण के लिए किसान अपनी खतौनी, बैंक पासबुक की छायाप्रति, पहचान पत्र में आधार कार्ड या राशन कार्ड, पासपोर्ट में से किसी एक की फोटोकॉपी लगेगी। किसान योजना के तहत रबी 2015 में भी पंजीकृत किसानों को सभी बीजों का अनुदान डीबीटी (डायरेक्ट बेनीफिट ट्रांसफर) के माध्यम से सीधे किसानों के खाते में दिया गया था।”

वो आगे कहते हैं, “विकास खंड स्तर पर संकर बीजों की उपलब्धता को सुनिश्चित किए जाने का निर्देश शासन ने दिया है। इस दौरान संकर बीज कंपनियों के स्टाल विकास खंड पर लगाकर भी किसानों को लाभ दिया जाएगा। बीज खरीदते वक्त किसान को पूरा मूल्य अदा करना होगा।”

किसान विकास खंड के राजकीय कृषि बीज भंडार, उपकृषि निदेशक कार्यालय, साइबर कैफे, लोकवाणी, जन सुविधा केंद्र पर जाकर विभागीय वेबसाइट पर अपना पंजीकरण करा सकते हैं। पंजीकृत कृषकों की सूची सात मई को जिले के प्रत्येक विकास खंडों में उपलब्ध करा दी जाएगी।

लखनऊ जिले के सरोजनी नगर ब्लाक के हिन्दू खेड़ा गाँव के किसान सुनील सिंह (45) कहते हैं, “गेहूं और सरसो के बीज के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था, ब्लाक के सरकारी दुकान पर बीज भी मिल गया था। खरीदने के पंद्रह दिन बाद खाते में रुपए आ गए थे। यहां से बीज खरीदने पर बीजों में खराबी भी नहीं आती है।”

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.