सरकारी नौकरी छोड़ बन गए किसान

सरकारी नौकरी छोड़ बन गए किसानgaonconnection

लखनऊ। जहां एक ओर सरकारी नौकरी पाने की होड़ मची है, वहीं कुछ ऐसे भी युवा हैं, जो नौकरी छोड़कर खेती कर रहे हैं। ऐसे लोग दूसरे युवाओं के लिए मिसाल बन रहे हैं। ऐसे ही एक नजीर हैं हरीश धनदेव। वे एलोवेरा की बड़े स्तर पर खेती कर रहे हैं। उनके खेत का एलोवेरा अब पंतजलि जैसी कंपनियां खरीद रही हैं।

राजस्थान के जैसलेर के हरीश धनदेव (30 वर्ष) ने साल 2012 में जयपुर से बीटेक करने के बाद दिल्ली के एक कालेज में एमबीए करने लगे। 

लेकिन एमबीए की पढ़ाई के दौरान ही उन्हें जैसलमेर की नगरपालिका में जूनियर इंजीनियर की नौकरी मिल गई। यहां महज दो महीने की नौकरी के बाद उनका मन नौकरी से हट गया। हरीश दिन-रात इस नौकरी से अलग कुछ करने की सोचने लगे।

इसी बीच हरीश को लगा की उन्हें खेती में कुछ करना चाहिए। हरीश फोन पर हुई बातचीत में बताते हैं, “नौकरी छोड़ने के बाद मैं यहां के पारंपरिक ज्वार और बाजरा से अलग कुछ करना चाहता था। इसी बीच मैं बीकानेर कृषि यूनिवर्सिटी गया वहां के वैज्ञानिकों ने मुझे एलोवेरा की खेती करने की सलाह दी।” 

उसके बाद हरीश दिल्ली में कृषि पर आयाजित एक्सपो में गए। वहीं पर उन्हें एलोवेरा की नई तकनीक और नए जमाने की खेती के बारे में जानकारी हासिल की। एक्सपो में एलोवेरा की खेती की जानकारी हासिल करने के बाद हरीश ने तय किया कि वो एलोवेरा उगाएंगे। यहीं से कहानी में मोड़ आया और नई शुरुआत को एक दिशा मिल गई। दिल्ली से लौटकर हरीश बीकानेर गए और एलोवेरा के 25 हजार पौधे लेकर जैसलमेर लौटे। बीकानेर कृषि विश्वविद्यालय से 25 हजार प्लांट लाए गए और करीब 10 बीघे में उसे लगाया गया। आज की तारीख में हरीश 700 सौ बीघे में एलोवेरा उगाते हैं, जिसमें कुछ उनकी अपनी ज़मीन है और बाक़ी लीज़ पर ली गई है।

जब एलोवेरा के पौधे लेकर आए तो लोगों ने कहा कि जैसलमेर में पहले भी कई लोगों ने एलोवेरा की खेती की थी, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। हरीश बताते हैं, “लोगों ने कहा कि कई लोगों ने पहले भी इसकी खेती की थी लेकिन वो असफल रहे। तब मैंने पता किया तो पता चला कि मार्केटिंग की वजह से ही उनको अपनी खेती बंद करनी पड़ी।”  हरीश कहते हैं, “शुरु में सब कुछ पता था ऐसा नहीं है। खेती की शुरुआत होते ही जयपुर से कुछ एजेंसियों से बातचीत हुई और अप्रोच करने के बाद हमारे एलोवेरा के पत्तों की बिक्री का एग्रीमेंट इन कंपनियों से हो गया। वो आगे कहते हैं, “इसके बाद हमने अपने यहां ही एलोवेरा की पत्तियों से निकालना शुरु किया।”

हरीश बताते हैं, “एक दिन मैं इंटरनेट पर देख रहा था वहीं पर पता चला कि पतंजलि एलोवेरा का सबसे बड़ा खरीददार है। मैंने वहां पर मेल भेजकर उन्हें बताया। उनका जवाब आया और फिर मुझसे मिलने उनके प्रतिनिधि भी आए।” पतंजलि के आने से चीजें बदली और आमदनी भी। करीब डेढ़ साल से हरीश एलोवेरा पल्प की सप्लाई बाबा रामदेव द्वारा संचालित पतंजलि आयुर्वेद को करते हैं।

हरीश कहते हैं, “हमारे यहां उत्पाद में क्वालिटी कंट्रोल का खास ध्यान रखा जाता है। हम अपने उत्पाद को लेकर कोई शिकायत नहीं चाहते सो प्रत्येक स्तर में हमें इसका खास ध्यान रखना होता है कि हम जो पल्प बना रहे हैं उसमें किसी प्रकार की कोई मिलावट या गड़बड़ी ना हो।”

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top