सरयू नहर परियोजना ठंडे बस्ते में, प्रस्तावित समय सीमा खत्म

सरयू नहर परियोजना ठंडे बस्ते में, प्रस्तावित समय सीमा खत्म

शोहरतगढ़ (सिद्धार्थनगर)। सरकारी परियोजनाओं मे शामिल एवं राष्ट्रीय नहर का दर्जा प्राप्त सरयू नहर परियोजना ठंडे बस्ते में चला गया है।

धीमी गति से हो रहा कार्य, धनाभाव एवं तमाम अटकलों के चलते रह-रह कर बाधित हो रहा है। दो वर्ष पूर्व किसानों के हितार्थ जब परियोजना को मूर्त रूप देते हुए नहर का निर्माण कार्य जल्द पूर्ण करने की बात केन्द्र व प्रदेश सरकार की ओर से उठी तो क्षेत्र के किसानों में खुशी की लहर दौड़ गई। 1970-80 के दशक मे सरयू नहर निर्माण को लेकर सर्वे हुये। भूमि पर अमली जामा काफी वर्षों बाद पहनाये जाने के शुभ संकेत दिखाई दिये। दो वर्ष पूर्व अचानाक तीव्र गति से सर्वे की गयी भूमि पर नहर निर्माण व पुल आदि का कार्य शुरू हो गया। भारत-नेपाल सीमा से कुछ दूरी से गुजरने वाला नहर बलरामपुर जनपद से सिद्धार्थनगर मे प्रवेश कर क्षेत्र के किसानों के चेहरे पर मुस्कान लाया। नहर निर्माण में बाधा आ रही कुछ मामलों को किसानों की रजामंदी से सिंचाई विभाग ने निपटारा भी किया। किसानों ने भी महंगी भूमि के नहर में निकलने की परवाह किये बिना सिंचाई सुविधा की बात सोचकर सहयोग की तरह हाथ बढ़ाया। 

बहराईच, श्रावस्ती, गोण्डा, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, महराजगंज आदि जनपदों के किसानों को नहर निर्माण ठीक ढंग से हो जाने पर फसल सिंचाई की चिन्ता से छुटकारा मिलने की उम्मीद बनी थी लेकिन कच्छप गति से हो रहे व वर्तमान समय मे बन्द कार्य ने किसानों को मायूस कर दिया है। नहर निर्माण के लिए लगाये गये प्लान्ट भी सूना पड़ा हुआ है। 

सिंचाई मंत्री ने जल्द कार्य पूर्ण करने के दिये थे निर्देश

सरयू नहर निर्माण की प्रगति देखने के लिए प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री शिवपाल यादव ने चार माह पूर्व शोहरतगढ़ तहसील के नहर निर्माण स्थल अड़वाडीह, धन्धरा पहुचकर निर्माण कर रही संस्था को तीव्र गति से कार्य कर योजना को पूर्ण कराने की बात कही थी। लेकिन मंत्री के जाते ही निर्माण की गति धीमी होती रही। नहर विभाग के अधिकारी व कर्मचारी काम के बन्द होने के लिए धनाभाव की बात कर रहे हैं। कुछ भी हो निर्माण कार्य बन्द होने क्षेत्र के किसान काफी दु:खी हैं।

सरयू नहर परियोजना

  • अनुमानित लागत धनराशि 316.86 करोड़
  • कार्यदायी संस्था- सरयू नहर खण्ड बांसी सिद्धार्थनगर
  • केन्द्रीय सहायता प्राप्त करने वाली संस्था-जल संसाधन मंत्रालय भारत सरकार
  • परियोजना स्थल-तहसील शोहरतगढ़, नौगढ़, सिद्धार्थनगर
  • कार्य शुरू होने की तारीख 12.04.2013 
  • कार्य समाप्ती करने की प्रस्तावित तारीख 11.10.2015
  • परियोजना से सम्भावित लाभ- प्रस्तावित सिंचित क्षेत्र-139906 हेक्टेयर 

रिपोर्टर - अर्चना श्रीवास्तव

Tags:    India 
Share it
Top