#स्वयंफेस्टिवल : एक राज्य-एक नंबर,1090 वुमेन पावर लाइन

#स्वयंफेस्टिवल : एक राज्य-एक नंबर,1090 वुमेन पावर लाइनआगरा में महिलाओं का 1090 की खासियतें बतातीं अर्चना कटारा।

कम्युनिटी रिपोर्टर : अंकित खंडेलवाल 25 वर्ष

स्वयं फेस्टिवल : छठा दिन। स्थान : आगरा का बिचपुरी ब्लाक

गाँव कनेक्शन फाउंडेशन की चौथी वर्षगांठ पर आगरा में चल रहे उत्सव में लालगढ़ी गाँव में 1090 का सत्र अर्चना कटारा ने लिया। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में महिला उत्पीड़न की घटनाओं को सख्ती से रोकने को प्रदेश सरकार ने वुमेन पॉवर लाइन 1090 की स्थापना की है। साल 2012 से यह सेवा निरन्तर कार्य कर रही है। महिला सशक्तीकरण की दिशा में वुमेन पॉवर लाइन ने अपनी एक अलग पहचान बनाई है।

वुमेन पावर लाइन 1090 सेवा को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए वर्ष 2014 में 'वुमेन सिक्योरिटी एप' सेवा शुरू किया गया। इस सेवा से युवतियां ज्यादा सुरक्षित महसूस कर रही हैं।

वुमेन पावर लाइन हेल्पलाइन नंबर 1090 की ताकत

एक राज्य, एक नंबर 1090 कोई भी पीड़ित महिला या उसकी महिला रिश्तेदार अपनी शिकायत इस नंबर पर नि:शुल्क दर्ज करवा सकती है। शिकायत करने वाली महिला की पहचान पूरी तरह गोपनीय रखी जाती है। पीड़िता को किसी भी हालत में पुलिस थाने या किसी आफिस में नहीं बुलाया जाता है। हेल्पलाइन में हर हाल में महिला पुलिस अधिकारी ही पीड़िता की शिकायत दर्ज करती है। महिला पुलिस कर्मी अपने वरिष्ठ पुरुष पुलिस कर्मियों को पीड़ित की केवल उतनी ही जानकारी या सूचना उपलब्ध दी जाती है, जो विवेचना में सहायक हो सके। कॉल सेंटर दर्ज शिकायत पर तब तक काम करता है जब तक उस पर पूरी कार्रवाई नहीं हो जाती।

1090 के सत्र में शामिल महिलाएं और बच्चे।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

Share it
Top