आग की एक चिंगारी ने सिर्फ़ घर ही नहीं, ख़ाक किए किसी के सपने भी

आग की एक चिंगारी ने सिर्फ़ घर ही नहीं, ख़ाक किए किसी के सपने भीजलकर राख हुए घर।

इश्त्याक खान/रानू सिद्दीकी, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

फफूंद (औरैया)। जहां लोगों की आंखों में आंसू नहीं रुक रहे थे तो वहीं भूख से तड़प रहे उनके बच्चे राख के ढेर में कुछ खाने के लिए तलाशते नज़र आए। ये बात है यूपी के औरैया स्थित गाँव धरमपुर जहूरअली की जहां एक चिंगारी से लगी आग ने ऐसा तांडव मचाया कि 25 घरों के लोगों को अपने घरों से बेघर होना पड़ा। घरों की गृहस्थी और छत ऐसे खाक हुए कि आस-पास क्षेत्र के लोग भी दहशत में आ गए। आग से हुए इस नुकसान की राजस्व अधिकारियों ने 2865500 रुपए आंकी है।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जिला मुख्यालय से 13 किलोमीटर दूर बसे इस गांव में लगी आग की चिंगारी से ग्रामीणों में हाहाकार मच गया। फिलहाल आग लगने की वजह का अभी पता नहीं चल पाया है। सबसे पहले आग गाँव निवासी नाथूराम (45 वर्षीय) के घर में लगी। जब तक घरवाले कुछ समझ पाते आग ने दूसरे घर को भी चपेट में ले लिया। हवा के तेज झोंकों ने एक घर से आग को 25 घरों तक पहुंचा दिया।

एक साथ जल रहे इतने घरों को देख ग्रामीण सख्ते में आ गए और उन्हें समझ में नहीं आ रहा था कि उस समय वे क्या करें। दूसरे गाँव के लोगों ने अग्निशमन को घटना की जानकारी दीऔर आग पर काबू पाने के लिए ट्यूबवेल चलाकर सायफन (लेजम) से पानी गाँव में पहुंचाया। लगातार चार टयूबवेल के चलने पर गाँव की आग शांत हुई। जबकि दमकल की गाड़ियां गांव में रास्ता न मिल पाने की वजह नहीं पहुंच सकीं और दमकल कर्मी दूर से ही खड़े आग का नजारा देखते रहे।

आग की चपेट में आए अंजली के सपने , अब कैसे पीले होंगे हाथ?

खाक हुए घरों में एक ऐसा भी घर है जिसकी बेटी की बारात आनी है लेकिन कैसे? परिवार को इस बात की चिंता खाए जा रही है कि वे अपनी 22 वर्षीय बेटी अंजली के हाथ कैसे पीले करेंगे और यही सोचकर परिवार के लोगों की आंखो से आंसू नहीं थम रहे हैं। अंजली के पिता राम नरेश (44 वर्षीय) ने बताया कि उनकी बेटी की शादी 2 मई को होनी है। अंजली के घर के लोग 30 अप्रैल को लगन चढ़ाने गए थे। घर में शादी की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं और घर में जश्न का माहौल था लेकिन अचानक लगी इस आग ने जश्न को मातम में बदल दिया। अंजली का शादी के लिए लाया गया दहेज, कपड़े, गहने, भी कुछ आग की भेंट चढ़ गया। घर इस तरह जला कि सिर छुपाने के लिए भी जगह नहीं बची है।

इन लोगों के घर जलकर हुए राख

आग लगने से गांव के रामनरेश, रामप्रकाश, रामबाबू, रमेश, ब्रहमदीन, मेम्बर सिंह, महेश बाबू, सूबेदार सिंह, रामनरेश, मुन्नू लाल, राजकमल, ग्याप्रकाश, रामकुमार, राजेन्द्र सिंह, महेन्द्र सिंह, बादशाद सिंह, सन्तोष कुमार, गौरव कुमार, शिव कुमार, बदन सिंह, भूप सिंह, सुरेन्द्र, रामकिशन लेखपाल, अहिवरन, कुवंर सिंह सहित 25 लोगों के मकान जलकर राख हो गए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top