धार्मिक नगरी अयोध्या को पर्यटन नगरी बनाने की कवायद तेज 

धार्मिक नगरी अयोध्या को पर्यटन नगरी बनाने की कवायद तेज अयोध्या को नया रूप देने की कवायद तेज हो गई है।

रबीश कुमार, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

फैजाबाद। अयोध्या को धार्मिक नगरी के साथ-साथ विश्व पर्यटन नगरी के रूप में प्रसिद्ध करने की कवायद तेज हो गई है। प्रदेश के प्रमुख सचिव (पर्यटन एवं सूचना) अवनीश अवस्थी ने फैजाबाद पहुंचकर जनपद के अधिकारियों एवं भारत सरकार से भेजी गई एजेंसी के साथ अयोध्या के चहुंमुखी विकास योजना के बारे में विस्तार से चर्चा की।

प्रमुख सचिव ने बताया, “पर्यटन के तहत अयोध्या में मूलभूत सुविधाओं, जनसुविधाओं से लैस करते हुए भव्य स्वरूप प्रदान किया जाएगा। हर क्षेत्र हर विभाग में एक साथ प्रोजेक्ट तैयार कर अमृतसर शहर के तर्ज पर विकसित करने की योजना है। सम्पूर्ण प्रोजेक्ट पर शत-प्रतिशत धनराशि भारत सरकार देगी अर्थात अयोध्या के विकास में प्रदेश सरकार पर कोई वित्तीय भार नहीं पड़ेगा।

ये भी पढ़ें: फैजाबाद-अयोध्या व मथुरा-वृंदावन नगर पालिकाओं को अपग्रेड कर नगर निगम बनाया जाएगा

सरयू नदी में फ्लोटिंग डैम्प (बैराज) बनाकर उसके जल स्तर वृद्धि कर सीधे राम की पौढ़ी में गिराया जाएगा, ताकि राम की पौढ़ी में अविरल व अनवरत जल प्रवाह बना रहे।” वहीं स्थानीय सांसद लल्लू सिंह ने पुराने बस स्टेशन तथा नये घाट के सामने दुकानों के नीचे पार्किंग स्थल विकसित करने तथा बाईपास पर निर्माणाधीन राम कथा संकुल प्रांगण में 200 बसों के रुकने का आईएसबीटी बनाने तथा उसके बगल में यात्री निवास की मांग की है।

ये भी पढ़ें: अयोध्या में बंद चल रही रामलीला का मंचन शीघ्र शुरू करें : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

जिस पर प्रमुख सचिव ने पूर्ण सहमत व्यक्त करते हुए योजना में शामिल करने के लिए एजेंसी को निर्देश दिए।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top