पशुओं के पोषण में मदद करेगा ऐप

पशुओं के पोषण में मदद करेगा ऐपगाय-भैंसों के दुग्ध उत्पादन करने के लिए उनको संतुलित आहार देना बहुत जरुरी है।

दिति बाजपेई,स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। गाय-भैंसों के दुग्ध उत्पादन करने के लिए उनको संतुलित आहार देना बहुत जरुरी है। ऐसे में राष्ट्रीय डेरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) ने एक ऐसी ऐप बनाई है जिसके माध्यम से पशुपालक अपने पशुओं को संतुलित आहार दे सकेंगे।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

“पशुपालको का सबसे ज्यादा खर्चा उनके खान-पान पर होता है। अगर पशुओं को संतुलित आहार मिलेगा तो वह अपने आनुवंशिक क्षमता के मुताबिक दूध दे सकेगी। इसीलिए इस ऐप को तैयार किया गया है। पशुपालक इस ऐप को अपने फोन में डाउनलोड करके संतुलित आहार दे सकता है।” ऐसा बताते हैं, लखनऊ में तैनात राष्ट्रीय डेरी विकास बोर्ड के मैनेजर मोहम्मद रशीद।

रशीद आगे बताते हैं, “इस ऐप को एनडीडीबी द्वारा विकसित किया गया है। इस ऐप में उन्ही पशुओं को संतुलित आहार दिया जा सकता है, जिनका पंजीकरण नंबर हो। इस 12 नंबर को ऐप डाउनलोड करने के बाद उसमें डालने उसके अनुसार वो इसका राशन को बैंलेस करेगा।” उत्तर प्रदेश दूध उत्पादन में तो आगे है पर प्रति पशु दुग्ध उत्पादकता में काफी कम है । उत्तर प्रदेश में प्रति गाय दुग्ध उत्पादन ढाई लीटर है वहीं प्रति भैंस दुग्ध उत्पादन साढ़े चार लीटर है।

“प्रति गाय-भैंस की दूध उत्पादकता में कमी का सबसे बड़ा कारण है पशुओं का असंतुलित आहार, जो छोटे किसान हैं उनके पास जो भी उपलब्ध होता है खिला देते हैं, जो किसान व्यावसयिक रुप से गाय-भैंसों को पाल रहे है कुछ हद तक वह पशुओं को संतुलित आहार देते है। एक वयस्क पशु के रोज 50 प्रतिशत हरा चारा और 50 प्रतिशत सूखा चारा तो देना ही चाहिए।” ऐसा बताते हैं, बरेली स्थित भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान के न्यूट्रीशियन विभाग के प्रधान वैज्ञानिक डॉ पुतान सिंह।

इस ऐप कोई भी पशुपालक अपने फोन पर डाउनलोड करके आहार संतुलन कार्यक्रम के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है। इस ऐप में हिंदी भाषा का प्रयोग किया गया है। पशुपालकों को सिर्फ (http://inaph.nddb.coop) वेबसाइट पर जा कर अपना पंजीकरण करना है, फिर अपने एंड्राइड फ़ोन पर अपने पशु (गाय/ भैंस) का पंजीकरण करके उनका आहार संतुलन करना हैI पंजीकरण के लिए अपने गायों और भैंसों को 12 नंबर का विशिष्ट टैग/ कड़ी लगाना जरुरी है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top