प्रतिबंधित साठा धान लगाने को लेकर भिड़े शाहजहांपुर में भाकियू नेता व किसान

प्रतिबंधित साठा  धान लगाने को लेकर  भिड़े शाहजहांपुर में  भाकियू नेता व किसानसूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों पक्षों को शांत कराया।

डॉ. पुनीत मनीषी, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

खुटार (शाहजहांपुर)। साठा धान लगाने वालों के खिलाफ विरोध में उतरी भारतीय किसान यूनियन के नेताओं व धान लगाने वाले सिख किसानों के बीच जमकर नोकझोक हुई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों पक्षों को शांत कराया। लेकिन इसके बाद भी सिख किसान मानने को तैयार नहीं हुए। इस वजह से फार्मरों की भाकियू नेताओं से हाथापाई की नौबत आ गई, लेकिन बाद में मामला शांत हो गया।

गुरुवार को भारतीय किसान यूनियन के नेताओं को सूचना मिली कि लक्ष्मीपुर गांव में कुछ फार्मर रोक के बावजूद साठा धान की फसल लगा रहे हैं। जिस पर दर्जनों भाकियू नेता कार्यकर्ता मौके पर पहुंचे और उन्होंने धान लगाए जाने का विरोध किया। भारतीय नेताओं के आने की सूचना मिलते ही आसपास के सिख फार्मर भी एकत्र हो गए और उन्होंने भी भाकियू नेताओं के खिलाफ जहर उगलना शुरू कर दिया।

भारतीय किसान यूनियन के नेताओं और किसानों के बीच वाद-विवाद होने की सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष इफ्तेखार अहमद पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और दोनों को समझाने का प्रयास करने लगे लेकिन कोई भी पक्ष पुलिस की बात मानने को तैयार नहीं था।

सिख किसानों का कहना था कि मामला कोर्ट में है और कोर्ट धान लगाने के खिलाफ आदेश करेगा तो उसका पालन करेंगे। जबकि नेताओं का कहना था कि प्रशासन की तरफ से धान की पौध पर रोक लगाई गई है लेकिन किसान रोंक के आदेशों को अनदेखा कर धान लगा रहे हैं।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top