भाजपा से टिकट नहीं मिला तो निर्दलीय लिया पर्चा 

भाजपा से टिकट नहीं मिला तो निर्दलीय लिया पर्चा कन्नौज में पहले दिन किसी भी विधानसभा क्षेत्र से नहीं हुआ नामांकन पत्र दाखिल 

अजय मिश्रा, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

कन्नौज। तीसरे चरण में होने वाले चुनाव के लिए मंगलवार से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई। पहले दिन सिर्फ प्रत्याशियों ने पर्चे ही लिए। दाखिल करने के लिए कोई नहीं आया। रोचक मामला यह है कि तिर्वा से भाजपा की ओर से घोषित प्रत्याशी कैलाश राजपूत के अलावा पूर्व में कमल चुनाव चिन्ह से चुनाव लड़ चुके आलोक वर्मा ने निर्दलीय रूप में नामांकन पत्र लिया। अभी दोनों ही लोग एक ही पार्टी में हैं।

कलक्ट्रेट भवन में जिले की तीनों विधानसभा क्षेत्रों के लिए नामांकन पत्र दाखिल होंगे। तिर्वा विधानसभा क्षेत्र के रिटर्रिंग ऑफीसर/एसडीएम राजेश कुमार यादव ने बताया कि पहले दिन कुल 11 लोगों ने पर्चे लिए हैं। इसमें भाजपा से कैलाश राजपूत, निर्दलीय आलोक वर्मा, बसपा से विजय सिंह विद्रोही, वोटर्स इंटरनेशनल पार्टी से देवेंद्र बाथम, निर्दलीय में पवन कुमार भानू, शशिबाला, रीता यादव, विजय कुमार, नरेश सिंह, मोहम्मद नईम खान और रघुवीर सिंह ने पर्चे लिए।

कन्नौज सदर विधानसभा क्षेत्र के रिटर्रिंग ऑफीसर अरूण सिंह ने बताया कि भाजपा की ओर से भोलानाथ, बसपा की ओर से दिलीप कुमार, वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल से दीपक कुमार, जन अधिकार पार्टी से रामप्रकाश सिंह और निर्दलीय राज कठेरिया ने पर्चे लिए। तिर्वा से पूर्व भाजपा प्रत्याशी आलोक वर्मा ने बताया कि पर्चा उन्होंने निर्दलीय लिया है, लेकिन पार्टी के निर्णय का इंतजार है।

तिर्वा में लगानी पड़ी थीं दो बैलेट यूनिट

पिछले विधानसभा चुनाव में जिले की तीन सीटों में तिर्वा क्षेत्र ऐसा था जहां दो बैलेट यूनिट लगानी पड़ी थीं। कारण, 23 प्रत्याशी चुनावी दंगल में थे। छिबरामऊ में 16 और कन्नौज विधानसभा क्षेत्र से 14 प्रत्याशियों ने अपना भाग्य आजमाया था। वर्ष 2012 के विधानसभा सामान्य निर्वाचन में 196 छिबरामऊ विधानसभा क्षेत्र से सपा से अरविंद सिंह यादव, बसपा से ताहिर हुसैन सिद्दकी, भाजपा से अर्चना पांडेय और कांग्रेस से छोटे सिंह यादव चुनाव मैदान में थे।

इसके अलावा राष्ट्रीय स्वाभिमान पार्टी से प्रदीप कुमार, राष्ट्रीय लोकमंच से प्रशांत प्रताप सिंह, जनक्रांति पार्टी से महेश चंद्र, रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया से मानिक चंद्र, भारतीय वंचित समाज पार्टी से रामकरन कश्यप, पीस पार्टी से शान मोहम्मद के साथ ही निर्दलीय रूप में किशुनदत्त, कैलाश बाबू, दिनेश चंद्र, धर्मेंद्र यादव, मनोज कुमार और विनय कुमार ने चुनाव लड़ा था। जीत सपा से अरविंद यादव के ही हाथ लगी थी। कुल ननामांकन 17 हुए थे, लेकिन एक पुरूष प्रत्याशी के नामांकन वापस लेने की वजह से दूसरी बैलेट यूनिट लगने से बच गई थी।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top