बस चली तो ग्रामीणों के खिले चेहरे, छात्राओं ने कहा अब हमें धक्का नहीं सहना पड़ेगा 

बस चली तो ग्रामीणों के खिले चेहरे, छात्राओं ने कहा अब हमें धक्का नहीं सहना पड़ेगा बाराबंकी के ओसाह बछरावां से लखनऊ के लिए शुरू हुई बस सर्विस।

लोकेश मंडल शुक्ला, स्वयं कम्युनिटी जनर्लिस्ट

बछरावां (बाराबंकी)। “ओसाह से बछरावां जीजीआईसी 15 किलोमीटर साइकिल चलाकर आती थी। इतनी दूर साइकिल चालने से इतना थक जाती थी कि पढ़ने का मन ही नहीं करता था। लेकिन अब हम सुकून से कॉलेज आ सकती हैं।” ये कहना है 17 वर्षीय छात्रा कोमल का।

मौका था हाल ही में इलाहाबाद -लखनऊ राज्य मार्ग पर स्थित बछरावां विधानसभा के विधायक रामनरेश रावत द्वारा क्षेत्र के ओसाह चौराहे से बसों के उद्घाटन का। यहां एक नए बस स्टैंड का उद्घाटन भी किया गया। छात्राएं बताती हैं कि यूं तो इस मार्ग पर पहले भी कई साधन चलते थे, लेकिन वह साधन डग्गामारी ही होते थे। एक-एक टेम्पो में मानक से ज्यादा सवारी बैठाये जाते थे। ऐसे में महिलाओं को और छात्राओं के साथ अक्सर अभद्रता हो जाती थी।

देश से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

परिवहन विभाग को मिले थे आदेश

क्षेत्र के ग्रामीणों द्वारा लंबे समय से क्षेत्र में बस चलवाने की मांग किए जाने के बाद सरकार ने परिवहन विभाग को इस संबंध में निर्देशित किया था। इसी के तहत रायबरेली से महाराजगंज और ओसाह, असहन, जगतपुर से बछरावां होते हुए लखनऊ को जाने वाली एक बस इस मार्ग पर चलवायी गई है। बस सेवा शुरू होने से ओसाह, रानीखेड़ा, टीलेण्ड व अन्य गाँवों के यात्रियों को काफी राहत मिली है।

ये भी पढ़ें: यूपी: बाराबंकी के 194 गाँवों के लिए शुरू होगी बस सेवा

ओसाह गाँव की रहने वाली मालती (36) बताती हैं, “अब तो हम को, जो टैंपू और टैक्सी में धक्के नहीं सहने पड़ेंगे। मनमाने किराए से भी छुट्टी मिल जाएगी। कम समय तथा कम पैसे में ग्रामीण अब राजधानी लखनऊ तक की यात्रा सहज कर सकेंगे।।”

ये भी पढ़ें: देश के मुख्य शहरों को जोड़ेगी रैपिड लाइन बस सेवा

वहीं 12 वीं की छात्रा संभावी बताती हैं, “अब हम लोगों को आठ किलोमीटर साइकिल चलाकर स्कूल नहीं आना पड़ेगा। हम बस से स्कूल जाएंगे।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top