प्रशासन के लाख प्रयास के बाद भी स्कूल नहीं जा रहे बच्चे

प्रशासन के लाख प्रयास के बाद भी स्कूल नहीं जा रहे बच्चेमजदूर गरीब वर्ग के लोगों में शिक्षा के प्रति जागरूकता नहीं होने के कारण अपने बच्चों से कराते है बाल मजदूरी  

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

गाजियाबाद। सरकार के लाख प्रयास और जागरूकता अभियान के बाद भी कुछ ऐसे बच्चे हैं जो कि अब भी स्कूल नहीं जा रहे। प्रशासन लगातार प्रयास कर रहा है कि किसी भी तरह ज्यादा से ज्यादा बच्चों को स्कूल तक लाया जाय इसके लिए कभी नो बैग डे तो कभी जन्मदिन उत्सव मनाने की योजना के बाद भी गाजियाबाद में कुछ ऐसे बच्चे हैं जो स्कूल नही आ रहे हैं।

हाल ही में बेसिक शिक्षा विभाग के सर्वे (हाउस होल्ड सर्वे) की रिपोर्ट में यह चैकाने वाला खुलासा हुआ कि जनपद के 852 बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं। स्कूल न जाने वाले सबसे अधिक बच्चे नगर क्षेत्र के हैं, जो स्कूल नहीं जाते। यह सर्वे शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए किया जाता है। बेसिक शिक्षा विभाग 3 से 14 आयु वर्ग के बच्चों को स्कूलों तक पहुंचाने के लिए प्रत्येक वर्ष सर्वेक्षण करता है।

इस बार भी विभाग ने ब्लॉक स्तर पर सर्वे किया। इस वर्ष विभाग ने पहली बार सर्वे के तरीके में परिवर्तन किया। इसके साथ ही मोदीनगर, लोनी, गाजियाबाद तहसील के ईंट भट्ठों व नगर क्षेत्र की झुग्गी-झोपड़ियों का सर्वेक्षण अलग से किया।इस सर्वेक्षण में जनपद के 1500 से ज्यादा शिक्षक व शिक्षा मित्र का सहयोग लिया गया।

इस सर्वे की रिपोर्ट के अनुसार विभाग ने 4,85,512 बच्चों पर सर्वे कर रिपोर्ट बनाई है। 4,84,661 बच्चे ऐसे हैं जो स्कूलजाते हैं और 852 बच्चे स्कूल नहीं जाते। 63 झुग्गी-झोपड़ियों का भी सर्वे हुआ बेसिक शिक्षा विभाग ने नगर क्षेत्र की 63 झुग्गी-झोपड़ियों का सर्वेक्षण किया है। साथ ही इस बार मोदीनगर के 122, लोनी के 126 और गाजियाबाद के 89 ईंट भट्ठेहैं, जिनका सर्वेक्षण किया गया।

ये भी पढ़ें- सीएम योगी की उम्मीदों पर खरे उतरेंगे प्राइमरी स्कूल ?

संजय नगर वार्ड 23 के गौरव भारद्वाज (38 वर्ष) का कहना है,“ मजदूर गरीब वर्ग के लोगों में शिक्षा के प्रति जागरूकता नहीं होने के कारण वो अपने बच्चे को स्कूल नहीं भेजते हैं।”

वहीं राजेंद्र नगर निवासी मनोज मिश्रा (36वर्ष) का कहना है,“ बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं के नारे का असर गाँव कस्बो में नहीं है। गाँव की महिलाएं आज भी पढ़ाई की कीमत नहीं समझ रही हैं। इस कारण वो अपने बच्चों की भी स्कूल नहींभेजती।”

बेसिक शिक्षा अधिकारी लालजी यादव बताती है, “ बच्चे स्कूल नहीं जा रहे उनके परिजनों से बात की जाएगी। सभी को स्कूल लाने का पूरा प्रयास किया जाएगा। जिसभी कारण से वो स्कूल नहीं आ रहे उसे दूर करने का प्रयास किया जाएगा।”

Share it
Top