शोरूमों में लग गया ग्राहकों का मेला

शोरूमों में लग गया ग्राहकों का मेलासुप्रीम कोर्ट ने बीएस-3 वाहनों के रजिस्ट्रेशन पर एक अप्रैल से रोक लगा दी है।

नवीन द्विवेदी ,स्वयं कम्यूनिटी जर्नलिस्ट

उन्नाव। एनजीटी की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने बीएस-3 वाहनों के रजिस्ट्रेशन पर एक अप्रैल से रोक लगा दी है। इस फैसले के आते ही आटो मोबाइल मार्केट में खलबली मच गयी है। ऑटो मोबाईल कम्पनियां वाहनों को वापस लेने को तैयार नहीं हैं।

इससे लाखों की रकम फंसते देख डीलर भी बेचैन दिखे। ऐसे में बीएस-3 वाहनों का स्टॉक खत्म करने के लिए शोरूम में भारी छूट दी गई और एक दिन की इस छूट में दोपहिया वाहनों के शोरूम में ग्राहकों का मेला लगा दिखाई दिया।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उन्नाव में बीएस-3 के करीब एक हजार बाइक व स्कूटी का स्टाक अलग-अलग शोरूम में है। कोर्ट के फैसले के कारण शोरूम मालिकों ने गुरुवार को बाइक और स्कूटी पर 5 से 12 हजार रुपये छूट का ऑफर देकर ब्रिकी किया। ऐसे में डिस्ट्रीब्यूटर ने अपने पहचान वालों और नजदीकियों को उधार देने से भी परहेज भी नहीं किया।

बता दें कि सुप्रीमकोर्ट ने देशभर में बीएस-3 गाड़ियों की बिक्री और रजिस्ट्रेशन पर रोक लगा दी है। यह फैसला आज से यानी पहली अप्रैल से लागू हो जाएगा। इसके बाद देशभर में सिर्फ बीएस-4 उत्सर्जन मानकों वाली गाड़ियां ही बेची और रजिस्टर्ड करवाई जा सकेंगी। प्रदूषण नियंत्रण के लिए दिया गया सुप्रीम कोर्ट का यह आदेश ऑटो कंपनियों के लिए बड़ा झटका है। कंपनियों के स्टॉक में बीएस-3 मानक की करीब 8.24 लाख गाड़ियां हैं। इसके चलते करीब 12 हजार करोड़ रुपए के नुकसान की दुहाई देते हुए कंपनियों ने यह स्टॉक बेचने की इजाजत मांगी थी। लेकिन जस्टिस एमबी लोकुर और जस्टिस दीपक गुप्ता की बेंच ने मांग खारिज कर दी। कोर्ट ने कहा, “कंपनियों के फायदे के लिए लोगों का स्वास्थ्य खतरे में नहीं डाल सकते। सुप्रीम कोर्ट ने कहा, “फायदे से ज्यादा महत्वपूर्ण स्वास्थ्य है। कंपनियां जानती थीं कि 1 अप्रैल, 2017 से सिर्फ बीएस-4 गाड़ियां ही बिकेंगी। फिर भी स्टॉक क्यों बढ़ाते रहे?’

कंपनी ने बीएस-3 स्टाक को वापस लेने से इंकार कर दिया है। करीब 35 बाइक व स्कूटी के साथ ही 25 ट्रैक्टर शोरूम स्टाक में है। ऐसे में 31 मार्च शाम तक बाइक व स्कूटी पर 7 हजार तक व ट्रैक्टर पर 20 हजार रुपये की छूट का आफर दिया है।”
राजेश यादव, मालिक, कृष्णा मोटर्स

महा छूट देने की पड़ गई जरूरत

एक-एक शोरूम में एक सैकड़ा तक बाइक व स्कूटी का स्टॉक डंप है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कंपनियों ने वाहनों की वापसी से हाथ खड़े कर लिए हैं, जिससे लाखों का नुकसान देख गुरुवार को बाइक पर 10 हजार तो स्कूटी पर 12 हजार तक छूट का ऑफर घोषित कर दिया है। जिसके कारण गुरुवार दोपहर बाद विशाल मोटर्स, कृष्णा मोटर्स, दीप मोटर्स, स्वास्तिक मोटर्स, चतुर्भुज मोटर्स जैसे शोरूम में बाइक खरीदारों की भीड़ उमड़ पड़ी। जहां एक बाइक की बिक्री पर शोरूम मालिक तीन से पांच सौ रुपये की छूट देने में मुश्किल होती थी। वहां सुप्रीम कोर्ट फैसले के बाद छूट नहीं महाछूट देने की जरूरत शोरूम मालिकों को पड़ गई।

जैसे जैसे ग्राहकों को हमारे द्वारा दी जा रही छूट के बारे में पता चला, लोग काफी संख्या में आ गये और वर्तमान में हमारे शोरूम में कोई भी गाड़ी नहीं बची है।
दीपांकर तिवारी, मालिक, दीप मोटर्स

ज्यादा नंबर, कम प्रदूषण

बीएस के साथ जो नंबर होता है उससे यह पता चलता है कि इंजन कितना प्रदूषण फैलाता है। यानी जितना ज्यादा नंबर उतना कम प्रदूषण। अभी तक देश में बीएस-3 इंजन वाले वाहन को इजाजत थी लेकिन कोर्ट के आदेश के बाद अब उन पर रोक लग गई है। अब बीएस-4 या उससे अधिक मानक वाले वाहन ही प्रयोग किए जा सकते हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top