उन्नावः जिलाधिकारी ने क्रय केन्द्रों का निरीक्षण कर लिया व्यवस्था का जायजा

उन्नावः जिलाधिकारी ने क्रय केन्द्रों का निरीक्षण कर लिया व्यवस्था का जायजाबीघापुर स्थित पीसीएफ गोदाम में एक भी किसान से गेहूं खरीद नहीं हो सकी।

राजेंद्र भदौरिया, कम्युनिटी जर्नलिस्ट

उन्नाव। जिला अधिकारी अदिति सिंह ने तीन गेहूं क्रय केन्द्रों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कुछ खामियां पायी जिन्हें तत्काल दूर करने के निर्देश आरएमआे को दिए है। जिलाधिकारी ने कहा कि अपनी उपज की सही कीमत पाने में किसानों को किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उन्होने पीसीएफ के गेहूं क्रय केन्द्र बिचपरी, व खाद्य एवं रसद विभाग के क्रय केन्द्र नवाबगंज का व खाद्य एवं रसद विभाग के उन्नाव नवीन मण्डी स्थल में स्थापित गेहूं क्रय केन्द्र का निरीक्षण किया। उन्होने केन्द्रों पर उपलब्ध अभिलेखों व किसानों के लिए उपलब्ध करायी जाने वाली मूलभूत, सुविधाआें, तथा क्रय हेतु उपकरणो— यथा इलेक्ट्रानिक कांटा, नमी मापक यन्त्र, बोरा, पीने के पानी की व्यवस्था, छाया की व्यवस्था, पेट्रोमैक्स, सिलाई मशीन, गेहू का मानक नमूना, बैनर आदि के बारे में विस्तार से जानकारी हासिल की।

उन्होने डिप्टी आरएमआे को निर्देश दिये कि केन्द्रवार खरीद का लक्ष्य निर्धारित करें। बिचपरी व मण्डी उन्नाव में इलेक्ट्रानिक कांटा सही पाया गया, लेकिन नवाबगंज क्रय केन्द्र पर कांटा सही नहीं पाया गया। कुछ अभिलेखों को छोडक़र बाकी सभी अभिलेख/रजिस्टर पाये गये। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि टोकन रजिस्टर व रसीद तत्काल उपलब्ध करायी जाय तथा गार्ड फाइल में क्रय सम्बन्धी शासनादेश लगाये जांय।

बिचपरी केन्द्र पर धन की उपलब्धता के बारे में जानकारी हासिल करने पर बताया गया कि 3 लाख की धनराशि उपलब्ध है, जिला अधिकारी ने कहा कि प्रत्येक केन्द्र पर 25—25 लाख की उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाय। कहा कि किसानों को आरटीजीएस के माध्यम से तत्काल भुगतान कराया जायेगा। बिचपरी केन्द्र पर गेहूं का सैम्पल मानक के अनुसार नहीं पाया गया।

यहां पर बोरो की 02 गांठे पायी गयी, जिलाधिकारी ने कहा कि 1 गांठे हर हाल में प्रत्येक केन्द्र में उपलब्ध रहनी चाहिए। यहां पर पेट्रोमैक्स व तिरपाल व पीने के पानी की व्यवस्था ठीक पायी गयी। नवाबगंज केन्द्र के निरीक्षण में जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि इलेक्ट्रानिक कांटा सही कराया जाय तथा किसानों के बैठने के लिए टेन्ट व कुर्सियों की व्यवस्था की जाय व पशुआें के लिए पानी की व्यवस्था की जाय।

यहां पर गेहूं का सैम्पल नही पाया गया, जिलाधिकारी ने यहॉं पर विपणन सहायक की तैनाती करने के निर्देश दिये तथा यहा पर तिरपाल भी नही पाया गया जिलाधिकारी ने सारी व्यवस्थाएं तत्काल सुनिश्चित कराने के निर्देश डिप्टी आरएमआे को दिये। मण्डी परिषद में स्थापित केन्द्र का निरीक्षण करते हुए अदिति सिंह ने निर्देश दिया कि यहां पर बड़ा बैनर मण्डी के गेट पर लगवाया जाय। यहा पर सिलाई मशीन व 1 गांठ बोरा थे लेकिन पेट्रोमैक्स नही पायी गयी।

जिले के विभिन्न गेहूॅं केन्द्रो का सिटी मजिस्ट्रेट, उप जिलाधिकारियों तहसीलदारों व नायब तहसीलदारों आदि ने सघन निरीक्षण किया। जिलाधिकारी के निर्देश दिये कि सभी की रिपोर्ट संकलित करते हुए पायी गयी कमियों का ब्यौरा प्रस्तुत करें और जो कमिया पायी गयी हैं उनके निराकरण के लिए अपर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में सोमवार को बैठक की जाय तथा कमियों के निराकरण के लिए सभी क्रय एजेन्सियों के जिला प्रभारियों को कड़े दिशा निर्देश दिये जाय।

तो क्या धान खरीद वाले फटे बोरों में होगी गेहूं खरीद!

शासन की मंशा के अनुरुप बीघापुर स्थित पीसीएफ गोदाम में एक भी किसान से गेहूं खरीद नहीं हो सकी, क्रय केंद्र पर ना ही किसानों को पानी के लिए व्यवस्था की गई नही नए बोरे मिले। केंद्र प्रभारी नरेश चंद्र शुक्ला ने बताया कि धान की खरीद वाले 974 फटे-पुराने बोरे रखे हुए हैं निरीक्षण करने पहुंचे उपजिलाधिकारी उदय भान सिंह ने नरेश चंद्र शुक्ल को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि शासन के मंशा के अनुरुप व्यवस्था करें यदि आपके पास बारदाना नहीं है तो तत्काल उच्चाधिकारियों को लिखित में सूचना दें तथा नियमावली को भी चस्पा करें पानी की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उप जिलाधिकारी ने बताया की तहसील क्षेत्र के किसानों की सूची विभाग को भेज दी गई है। जिसके तहत ही गेहूं की खरीद की जाए।

पहले दिन खरीद केन्द्र नहीं पहुंचे किसान

विकास खण्ड में गेहूं खरीद के लिए एसएफसी द्वारा पीडीएस गोदामें खरीद केन्द्र खुल गया है। आज पहले दिन कोई भी किसान अपना गेहूं लेकर केन्द्र पर नहीं पहुंचा क्योकि अभी क्षेत्र में गेहूं की कट ाई शुरू हो रही है। हलांकि केन्द्र कर्मचारी बैनर, पंखा, इलेक्ट्रानिक कांटा, बीम स्केल, खरीद सम्बन्धी अन्य आवश्यक अभिलेखों आदि के साथ मुस्तैद नजर आए। गौरलतब हो कि किसानों के बैंठने के लिए यहां तखत, दरी और बैंच आदि की व्यवस्था भी की गयी है। क्रय केन्द्र प्रभारी सुशील कुमार शुक्ला, सहायक नन्द किशोर ने बताया कि किसानों को गेहूं का भुगतान आ रटीजीएस के माध्यम से किया जाएगा। किसानों को कोई असुविधा न होने पाए इसका खास खयाल रखा जा रहा है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top