बागवानी से मिल रहा अच्छा मुनाफा

बागवानी से मिल  रहा अच्छा मुनाफाकिसान परम्परागत खेती के साथ-साथ बागवानी के प्रति रूझान बढ़ा है।

वीरेंद्र सिंह, स्वयं कम्यूनिटी जर्नलिस्ट

बेलहरा (बाराबंकी)। जिले के किसान परम्परागत खेती के साथ-साथ बागवानी से भी अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं। अमरूद की बागवानी की तरफ किसानों का रूझान इतना बढ़ा है कि पूरे जिले मे करीब 500 हेक्टेयर में अमरूद की बागवानी कर रहे हैं।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जिला मुख्यालय से 38 किमी उत्तर दिशा में बेलहरा क्षेत्र के ग्राम सेलहुवा मऊ के किसान गोकरन वर्मा (40 वर्ष) बताते हैं, “मैंने 2012 में अपनी एक एकड़ खेत में अमरूद का बाग लगाया था, जो तीन वर्ष में तैयार हो गया। तब से प्रति वर्ष उसमे से 1.5 से 2 लाख की आमदनी हो रही है।”

गोकरन बताते हैं, “हमने इस बाग में 100 पेड़ अमरुद के, व दो-दो पेड़ चीकू और आंवले लगाए थे। हमारे बाग में वर्ष में दो फसलें मिल जाती हैं। एक फसल जून में व दूसरी फसल दिसम्बर में।” वहीं अमरूद की बागवानी करने वाले किसान रामू (45 वर्ष) कहते हैं, “हमारे बाग में कई तरह के अमरूद के पेड़ हैं। एल 49, ललित श्वेता , इलाहाबादी सफेदा है।

इस समय थोक में 12 से 15 रुपए किलो अमरुद आसानी से बिक जाता है। एल 49 को सरदार अमरूद भी कहते हैं।” जिला उद्यान अधिकारी जयकरन सिंह कहते हैं, “बाराबंकी जिले मे लगभग 500 हेक्टेयर एरिया मे अमरूद की बागवानी हो रही है। द्वेदीगंज , हरक, रामनगर ,सूरतगंज, सिरंलीगौसपुर, दरियाबाद आदि विकास खण्डों में अमरूद की बागवानी सबसे ज्यादा हो रही है।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top