गर्मी की छुट्टी में सरकारी स्कूलों में होंगे समर कैम्प 

गर्मी की छुट्टी में सरकारी स्कूलों में होंगे समर कैम्प सरकारी स्कूलों की दशा सुधारने की दिशा में सरकार ने काम करना शुरू कर दिया है।

दीपकृष्ण शुक्ला, कम्युनिटी जर्नलिस्ट

उन्नाव। सूबे की योगी सरकार ने सरकारी स्कूलों की दशा सुधारने की दिशा में काम करना शुरू कर दिया है। शिक्षकों की उपस्थिति से लेकर बच्चों की ड्रेस तक हर बिन्दु पर बदलाव कर इन्हें प्राइवेट स्कूलों को टक्कर देने लायक बनाया जा रहा है। इसी क्रम में गर्मी की छुट्टी में सरकारी स्कूलों में समर कैम्प आयोजित करने के दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। जिनमें बच्चे ताइक्वांडो, जूडो, ड्राइंग, पेंटिंग, नृत्य, गायन जैसी गतिविधि में दक्ष हो सकेंगे।

मालूम हो कि तमाम रुपए खर्च करने के बाद भी सरकारी स्कूलों की हालत में सुधार नहीं हो रहा है। सरकारी स्कूल का नाम सुनते ही वही पुरानी छवि दिमाग में बनने लगती है। प्रदेश की योगी सरकार इसी छवि को दुरुस्त करने की दिशा में पहल करती नजर आ रही है। जिसके चलते इन स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों को टक्कर देने लायक बनाने के लिए तमाम परिवर्तन किए जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें- एक मजदूर जिसकी कहानी को 1,20,000 से ज्यादा लोग शेयर कर चुके हैं, आप भी पढ़िए

जिनमें शिक्षकों की बायोमेट्रिक उपस्थिति, शिक्षकों की फोटो स्कूल में चस्पा कराने जैसे तमाम निर्देश अभी तक जारी किए जा चुके हैं। इसी कड़ी में अब सरकारी स्कूलों में समर कैम्प आयोजित करने का भी निर्णय लिया गया है। जिसके आयोजन के सम्बन्ध में सहायक बेसिक शिक्षा निदेशक षष्ठ मण्डल महेन्द्र सिंह राणा ने दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।

उन्होंने सभी शिक्षकों को निर्देश दिया हैं कि वे अपने अपने स्कूल में 21 मई से तीन जून तक होने वाले ग्रीष्मकालीन अवकाश में समर कैम्प आयोजित करने का प्रस्ताव तैयार कर 12 मई तक सम्बन्धित खण्ड शिक्षा अधिकारी को दे दें। 15 मई तक बेसिक शिक्षा अधिकारी इन प्रस्तावों पर अपनी सहमति देकर समर कैम्प की व्यवस्था करें। कैम्प में बच्चों को ताइक्वांडो, जूडो, ड्राइंग, पेंटिंग, नृत्य व गायन जैसी गतिविधियों का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें- इस विधि से कम पानी में भी 30 प्रतिशत तक बढ़ेगी धान की पैदावार

समर कैम्प कराने वाले शिक्षकों को मिलेगा उपार्जित अवकाश

समर कैम्प आयोजन से गर्मी की छुट्टियां गंवाने का अफसोस शिक्षकों को न हो इसके भी इंतजाम किए गए हैं। जारी दिशा-निर्देशों में यह बात भी कही गई है कि जो शिक्षक समय कैम्प का आयोजन करते हैं उन्हें विभागीय नियमों के अनुसार उपार्जित अवकाश की सौगात दी जाएगी।

छुट्टी के लिए हर विषय में दिया जाएगा होमवर्क

आमतौर पर देखा जाता है कि गर्मियों की छुट्टियों में सरकारी स्कूलों के बच्चों का पढाई से वास्ता नहीं रह जाता है। छुट्टी की मस्ती में वह पूर्व में की गई पढाई भूल जाते है। इस पर भी निदेशालय गम्भीर है। 41 दिनों की इस छुट्टी के लिए बच्चों को सभी विषयों में होमवर्क और प्रोजेक्ट वर्क देने के भी दिशा-निर्देश दिए गए हैं। जो बच्चे छुट्टियों में विज्ञान विषय का अच्छा प्रोजेक्ट बनाकर लाते हैं उन्हें आगे इंस्पायर एवार्ड के लिए भेजा जाएगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top