होम्योपैथी में भी है पशुओं की कई बीमारियों का इलाज

दिति बाजपेईदिति बाजपेई   23 July 2018 5:10 AM GMT

होम्योपैथी में भी है पशुओं की कई बीमारियों का इलाजगाँव में जहां पशुपालक अपने पशुओं के इलाज के लिए अंग्रेजी दवाओं और घरेलू इलाज के भरोसे रहते हैं।

"होम्योपैथी लंबे समय तक चलने वाला इलाज है लेकिन इससे पशुओं में बीमारी जड़ से खत्म हो जाती है। होम्योपैथी पशुओं पर भी उतना ही कारगर है जितना इंसानों पर।" ऐसा बताते हैं,

बरेली। गाँव में जहां पशुपालक अपने पशुओं के इलाज के लिए अंग्रेजी दवाओं और घरेलू इलाज के भरोसे रहते हैं। वहीं बरेली में पिछले आठ वर्षों से भगवती प्रसाद द्विवेदी (34 वर्ष) होम्योपैथी दवा देकर पशुओं का इलाज कर रहे हैं।

"होम्योपैथी लंबे समय तक चलने वाला इलाज है लेकिन इससे पशुओं में बीमारी जड़ से खत्म हो जाती है। होम्योपैथी पशुओं पर भी उतना ही कारगर है जितना इंसानों पर।" ऐसा बताते हैं, भगवती प्रसाद द्विवेदी।

जिला मुख्यालय से पश्चिम दिशा में लगभग 15 किमी दूर बेहरी ब्लॉक के बंजरिया और उसके आस-पास के गाँव में भगवती दिवेद्वी पशुओं का होम्योपैथी तरीके से इलाज कर रहे हैं। भगवती बताते हैं, "पशुओं में बुखार, पेट खराब होने, प्रसव के दौरान समस्या, गुदा से खून, मूत्राशय की पथरी जैसी कई बीमारियों में होम्योपैथी तुरंत कारगर है। हमारे क्षेत्र में ज्यादातर पशुपालक का होम्योपैथी से ही पशुओं का इलाज करा रहे हैं।"

भगवती प्रसाद होम्योपैथी के चिकित्सक हैं। लंबे समय तक काम करते हुए वह होम्योपैथी से सभी पशुओं का इलाज कर रहे हैं। ज्यादातर पशुपालक पशु के बीमार होते ही अंग्रेजी दवाइयों का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में भगवती प्रसाद होम्योपैथी इलाज पर भरोसा कर रहे हैं। गुरसौली गाँव के डेयरी संचालक यशवंत कुमार (40 वर्ष) बताते हैं, "हमारे पशु के थन में गांठ पड़ गई थी हमने उसको होम्योपैथी दवा खिलाई थी अब वो ठीक है। होम्योपैथी इलाज में दूध पर भी असर नहीं आता है।" भारत में होम्योपैथी और पशुओं के इलाज की बात करें तो ये कोई प्रचलित विधा नहीं है।

होम्योपैथी दवाएं पशुओं के लिए कारगर

होम्योपैथी इलाज के बारे में लखनऊ स्थित उत्तर प्रदेश पशुधन विकास परिषद के डॉ. बीबीएस यादव बताते हैं, "पशुओं में होने वाली क्रोनिक बीमारी (लंबे समय तक चलने वाली बीमारी) में होम्योपैथी इलाज काफी फायदेमंद है। आईवीआरआई अनुसंधान भी लगातार होम्योपैथी पर रिसर्च कर रहे है। अभी कुछ ही पशुपालक होम्योपैथी तरीके से पशुओं का इलाज कर रहे हैं। होम्योपैथी दवा सस्ती भी पड़ती है और इनका पशुओं पर कोई दुष्प्रभाव भी नहीं पड़ता है। पशुओं में होने वाले थनैला रोग, गांठ, बच्चेदानी का बाहर आ जाना ऐसी बीमारी के होम्योपैथी दवाएं कारगर है।"

ये भी पढ़ें - एक बार बोकर पांच साल तक पशुओं को खिलाइए ये घास

ये भी पढ़ें - नेपियर घास एक बार लगाएं पांच साल हरा चारा पाएं, वीडियों में जानें इसको लगाने की पूरी विधि

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top