कन्नौज: नई तहसील, ब्लॉक में तैनाती तीन माह बाद

कन्नौज: नई तहसील, ब्लॉक में तैनाती तीन माह बादविधानसभा चुनाव की वजह से अब इन सभी कार्यों के लिए इंतजार करना पड़ेगा।

अजय मिश्र

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

कन्नौज। वीवीआईपी जिले में सबसे पहले हसेरन को चौथी तहसील का दर्जा मिला। काफी दिनों से चल रही मांग के तहत ठठिया को नौवें ब्लॉक के रूप में बनने पर मुहर लगी। हालांकि दोनों ही स्थानों पर अफसरों व कर्मचारियों की तैनाती नहीं हो सकी है। विधानसभा चुनाव की वजह से अब इन सभी कार्यों के लिए इंतजार करना पड़ेगा।

जनपद में अब तक सदर कन्नौज तहसील, छिबरामऊ और तिर्वा तीन तहसील थीं। हसरेन को चौथी तहसील का दर्जा करीब दो महीने पहले मिल गया था। हालांकि घोषणा काफी पहले कर दी गई थी। इस नई तहसील में सौरिख और हसेरन दो ब्लॉक रहेंगे। इस तहसील में तिर्वा तहसील और छिबरामऊ तहसील का हिस्सा काटकर समायोजित किया गया है। इसमें 145 राजस्व ग्राम शामिल किए गए हैं।

दूसरी ओर ठठिया जो अब तक उमर्दा ब्लॉक क्षेत्र की सबसे बड़ी ग्रामसभा में गिनी जाती थी, अब खुद ब्लॉक बन गया है। उसके तहत 40 ग्रामसभाएं आएंगी। यहां भी किसी भी तरह का कोई काम नहीं हो सका है। दोनों ही स्थानों पर मुख्यालय का चयन कर भवन बनने हैं। आवासों का भी निर्माण कार्य कराया जाएगा। हालांकि, पहले की तरह ही तिर्वा, उमर्दा, सौरिख और हसेरन में काम होते रहेंगे। अब विधानसभा चुनाव का माहौल गर्म है, जिसकी वजह से कोई भी नया काम नहीं किया जा सकता है। इस बाबत जब एडीएम राजस्व एवं वित्त संतोष कुमार वैश्य से संपर्क किया गया तो बात नहीं हो सकी।

ठठिया ब्लॉक में शामिल ग्रामसभाएं

ठठिया, भदौसी, महसैया, हरौली, करौंदा शाहनगर, बलनापुर, औसेर, सिमरिया, हमीरपुर, रहमतपुर, सिंगरी, सरसई, भुन्ना, बहसुइया, जैनपुर, भखरौली, सुर्सी, फकरपुर बरेवा, चंदौली, खामा, पट्टी-कडे़रा, कडेरा, सांडा, मलगवां, रूरा, निस्तौली, तिजलापुर, बेहटा, पैथाना, ककरघटा, रतनापुर सरैया, सतसार, उमरन, सिंहपुर, हिसामुद्दीनपुर, जनखत, अज्यौरा, हरेईपुर, गुरौली और खैरनगर।

तहसील के लिए जरूरी कार्यालय और अफसर

  • एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार की तैनाती
  • सभी अधिकारियों के न्यायालय और कार्यालय
  • पूर्ति विभाग का कार्यालय
  • जमीन की बैनामा का कार्यालय
  • सीओ का कार्यालय और तैनाती
  • खतौनी का कार्यालय
  • अफसरों और कर्मचारियों के आवास
  • निर्वाचन का कार्यालय आदि

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top