नदियों का जलस्तर बढऩे से ग्रामीणों की बेचैनी बढ़ी

नदियों का जलस्तर बढऩे से ग्रामीणों की बेचैनी बढ़ीघाघरा, गोर्रा व राप्ती के जलस्तर में हो रहा तेजी से इजाफा

कृष्णमोहन दुबे, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

ब्रह्मपुर (गोरखपुर)। नदियों का जलस्तर बढऩे से तटवर्ती गाँवों में रहने वाले लोगों की बेचैनी भी बढऩे लगी है। फिलहाल जिले में बाढ़ जैसी कोई स्थिति नहीं है, लेकिन बाढ़ आशंका को लेकर ग्रामीणों के बीच चर्चा शुरू हो गई है। वहीं जिला प्रशासन भी बाढ़ को लेकर तैयारियां शुरू कर चुका है। जिलाधिकारी राजीव रौतेला भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर मातहतों को जरूरी निर्देश दे चुके हैं।

बतादें कि जिले में राप्ती व गोर्रा के अलावा सरयू नदी गुजरती हैं। इन नदियों में इनदिनों बारिश के चलते जलस्तर बढऩे लगा है। हालांकि प्रशासन की ओर से समय रहते तैयारियां तेज कर दी गई है। लेकिन बाढ़ की आशंका से ग्रामीण काफी भयभीत हैं।

ब्रह्मपुर ब्लॉक के इटऊआ निवासी अजय राय (55 वर्ष) ने बताया,“ गोर्रा नदी का जलस्तर इन दिनों बढऩे लगा है। जिसके चलते बाढ़ का भय सता रहा है। प्रशासन को तैयारी तेज करनी चाहिए।” ब्रह्मपुर ब्लॉक के हरपुर गाँव निवासी रामनारायण यादव (47 वर्ष) ने बताया,“ राप्ती का ही पानी गोर्रा में आता है, इसलिए दोनों नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। इसके कारण लोग भयभीत हैं।”

ब्रह्मपुर ब्लॉक के सैंथवलिया गाँव निवासी हरिशंकरण पांडेय (50 वर्ष) ने बताया,“ बारिश के चलते नदियों के जलस्तर में तेजी से वृद्धि हो रही है। प्रशासन को इसपर निगरानी रखने की जरूरत है।”

गोरखपुर बाढ़ खंड अधिशासी अभियंता, डीसी वर्मा बताते है,” फिलहाल नदी का पानी अपने दायरे में है, बाढ़ जैसी अभी कोई संभावना नहीं है। वैसे बारिश के दिनों में नदियों का जलस्तर बढऩा स्वाभाविक है। “

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top