उम्मीदों में दर्द मिलता, इंतजार में दमतोड़ देते बुज़ुर्ग

उम्मीदों में दर्द मिलता, इंतजार में दमतोड़ देते बुज़ुर्गमदरसा एस.ए. मेमोरियल पब्लिक स्कूल में बच्चों ने पेश किए कई कार्यक्रम

शुभम मिश्र, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

कन्नौज। ‘‘ मेरा बेटा कुछ दिन के लिए ही मुझे यहां छोड़ गया है। जल्द ही वह आएगा और मुझे ले जाएगा। बुजुर्ग मां वृद्धाश्रम से कुछ दिनों में कई बार फोन लगाती है पर बेटा कोई न कोई बहाना बनाकर टाल देता है। आखिकर बुजुर्ग मां चल बसी।’’ बुज़ुर्गों की वर्तमान समय की इस हकीकत को नाटक के जरिए बयां किया एक मदरसे के बच्चों ने।

जिला मुख्यालय से करीब पांच किमी दूर बसे हाजीगंज के मदरसा एस.ए. मेमोरियल पब्लिक स्कूल में बुधवार को वार्शिकोत्सव और परीक्षाफल का वितरण हुआ। इसमें नौनिहालों ने कई कार्यक्रम पेष कर लोगों का मनमोह लिया। नाटक के जरिए बताया गया, बदलते जमाने में बडे़ हो चुके बच्चे अपनी मां-बाप की सेवा नहीं करना चाहते हैं। पैसा भी है लेकिन उनको वृद्धाश्रम में छोड़कर नौकरी करने चले जाते हैं।

हाईटेक हो चुके इस मदरसे में कई तरह की बेहतरीन तालीम दी जाती हैं। मदरसे के बच्चों ने पर्यावरण पर भी नाटक पेश किया। इसमें पौधों को न काटने और सभी को वृक्षारोपण का संदेष दिया गया। इसके अलावा छात्र-छात्राओं ने कव्वाली, नृत्य, नात, संस्कृत के ष्लोक आदि भी प्रस्तुत किए। मुख्य अतिथि/एसडीएम सदर डाॅ. अरूण कुमार सिंह ने बच्चों ने पुरस्कार भी बांटे। विशिष्ट अतिथियों में डीएसओ एसके सिंह, डीएमडब्ल्यूओ पवन सिंह व जिला कमांडेंट होमगार्ड चंदन सिंह ने मदरसे की तारीफ कर और तरक्की करने की बात कही। साथ ही होमवर्क अच्छा करने वाले सभी बच्चों की माताओं को भी पुरस्कृत किया।

प्रबंधक शेख सलाउद्दीन और प्रधानाचार्य मुहम्मद साकिब ने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सभी अभिभावकों और मदरसा स्टाफ का धन्यवाद दिया।

Share it
Top