मिनी सोलर पावर ग्रिड से यूपी में 5,768 आशियाने रौशन

मिनी सोलर पावर ग्रिड से यूपी में 5,768 आशियाने रौशनमिनी सोलर पावर ग्रिड से बिजली लेने के लिए हर महीने देना होगा मासिक शुल्क  फोटो-इंटरनेट

लखनऊ। उन्नाव के बछुआखेड़ा गाँव में अब शाम होते ही घरों से दूधिया रौशनी जममगाने लगती है। नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विकास अभिकरण, उत्तर प्रदेश यूपीनेडा ने हाल ही में गाँव में 35 किलोवाट पॉवर क्षमता का मिनी सोलर पावर ग्रिड प्लांट लगवाया है, जिसके माध्यम से गाँव के 90 घरों में बिजली पहुंच रही है।

यूपीनेडा ने प्रदेश के कई जिलों में लगाए गए, मिनी सोलर पावर ग्रिड के ज़रिए उन्नाव जिले में बछुआखेड़ा गाँव के 90 घरों की तरह ही प्रदेश के 5,768 घरों में बिजली पहुंच रही है।

प्रदेश में मिनी सोलर पावर ग्रिड की मदद से गाँवों में बिजली उपलब्ध किए जाने की बात कहते हुए यूपीनेडा की निदेशक संगीता सिंह ने गाँव कनेक्शन को बताया, ''गाँवों में पर्याप्त बिजली मिल सके इसके लिए हमने प्रदेश में उन्नाव, रायबरेली, आज़मगढ़, सीतापुर, कन्नौज और सोनभद्र जिलों में मिनी सोलर पावर ग्रिड लगवाए हैं। इस ग्रिड की मदद से पूरे गाँव में सस्ते दर पर आसानी से बिजली पहुंचाई जा सकती है।''

संगीता सिंह , निदेशक यूपीनेडा

भारत में मिनी सोलर पावर ग्रिड पर आधारित प्लांटों का निर्माण अभी तक मात्र उत्तर प्रदेश में ही हुआ है। गाँवों में मिनी सोलर पावर ग्रिड लगवाने में यूपीनेडा की मदद गुड़गाँव की कंपनी ओएमसी भी कर रही है। ओएमसी के माध्यम से अभी तक प्रदेश के हरदोई जिले में 10 गाँव, सीतापुर में 13 गाँव, उन्नाव में तीन गाँव, फरुर्खाबाद में तीन गाँव, शाहजहांपुर में तीन गाँव, लखीमपुर खीरी में छह गाँव, प्रतापगढ़ में एक गाँव और रायबरेली में छह गाँवों तक बिजली पहुंचाई जा रही है।

मिनी सोलर पावर ग्रिड की उपयोगिया बताते हुए यूपीनेडा के वरिष्ठ परियोजना अधिकारी अतुल शंकर श्रीवास्तव ने बताया, ''यूपीनेडा जिले भर में गाँव और छोटे कस्बों में मिनी सोलर ग्रिड लगवा रहा है। इस ग्रिड से प्राप्त बिजली का इस्तेमाल सिंचाई के लिए पंप चलाने, आटा चक्की चलाने, घरों, दुकानों, स्कूलों और अस्पतालों में किया जा रहा है।

क्या है मिनी सोलर पावर ग्रिड

मिनी सोलर पावर ग्रिड प्लांट योजना से गाँवों में प्रत्येक लाभार्थी को घर पर लाइट, रेडियो, टीवी और पंखा चलाने की सुविधा मिलेगी। इस ग्रिड के माध्यम से हर निवास में प्रतिदिन आठ से दस घंटे बिजली मिलेगी।ग्रिड से 50 वॉट तक बिजली लेने पर लाभार्थी को 50 रुपए मासिक भुगतान और 100 वाट तक बिजली लेने पर 150 रुपए का भुगतान करना पड़ता है।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top