गाय-भैंसों की देखभाल में उपयोगी टोल फ्री नंबर की पशुपालकों को जानकारी ही नहीं

Diti BajpaiDiti Bajpai   28 March 2017 5:25 PM GMT

गाय-भैंसों की देखभाल में उपयोगी टोल फ्री नंबर की पशुपालकों को जानकारी ही नहींपशुधन समस्या निवारण केंद्र तो बना पर इसकी जानकारी पशुपालकों के पास है ही नहीं।

शाहजहांपुर (यूपी)। पशुपालकों की समस्याओं को सुनने के लिए तीन साल पहले विभाग द्वारा पशुधन समस्या निवारण केंद्र तो बना पर इसकी जानकारी ज्यादातर पशुपालकों के पास है ही नहीं।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

“हमको किसान सेवा केंद्र का नंबर तो पता है पर इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। हमारा पशु बीमार होता है तो हम प्राइवेट डॉक्टर को फोन करके बुला लेते हैं।” ऐसा बताते हैं कांट ब्लॉक के कुशल रावत। कुशल रावत शाहजहांपुर जिले से 40 किमी दूर कांट ब्लॉक के औदापुर गाँव में रहते हैं।

पशुपालन विभाग द्वारा शुरू हुए इस केंद्र का उद्देश्य पशुपालकों की समस्याओं को सुनकर उनका तुरंत निराकरण करना है। इसके साथ-साथ पशुपालकों को तकनीकी ज्ञान भी देना है। पशुपालकों की समस्याओं के लिए कंट्रोल रूम भी स्थापित किया गया है, जिसमें दो पशुचिकित्सक व उनके दो सहायक रहते हैं। केंद्र का समय सुबह आठ बजे से रात के आठ बजे तक निर्धारित किया गया है।

चिकित्सालयों की दीवारों पर टोल फ्री नम्बर लिखने के निर्देश हर जिले के मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी और प्रधानों को दिए गए थे। सब जगह लिखे भी हुए हैं। जब कॉल आती है और तो जानकारी दी जाती है।
डॉ. वीके सिंह, उपनिदेशक, लखनऊ स्थित पशुपालन विभाग

गाँव वालों को नम्बर न पता होने के बारे में बताते हुए डॉ. सिंह बताते हैं, “अभी भी कई पशुपालक ऐसे हैं जो जागरूक नहीं हैं, जिनको नम्बर के बारे में पता है वो कॉल करते हैं। इसके अलावा गोष्ठियों और शिविरों द्वारा इस नम्बर का प्रचार-प्रसार किया जाएगा।”

कांट ब्लॉक बंसखेड़ा गाँव के सुशील यादव बताते हैं, “हमको इस केंद्र के बारे में कुछ नहीं पता है। अभी मुर्गी पालन शुरू किया है, उसके बारे में हमने पशुचिकित्सक से जानकारी ली थी।” औदापुर गाँव के रतराम यादव (31 वर्ष) के पास आठ भैंसे हैं। वो बताते हैं, ‘’अगर हमें नम्बर पता हो तो खुद ही छोटी-मोटी समस्याओं को दूर कर लें। बार-बार डॉक्टरों को बुलाने की जरूरत ही न पड़े। इससे हमारा पैसा भी बच जाए।”इस केंद्र में तैनात एक कर्मचारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया, “दिनभर में 150-200 कॉल आ जाती हैं और सारी समस्याओं को सुनकर उन पर तुरंत कार्रवाई की जाती है।”

पशुधन समस्या निवारण केंद्र के नम्बर

  • टेलीफोन नंबर-

0522-2741991-2741992

  • टोल फ्री नंबर- 18001805141

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top