गेहूं खरीद की तैयारियां जोरो पर, प्रशासन एलर्ट

गेहूं खरीद की तैयारियां जोरो पर, प्रशासन एलर्टमुख्यमंत्री के निर्देश का असर जिले में दिखने लगा है।

राजेंद्र भदौरिया, कम्युनिटी जर्नलिस्ट

उन्नाव। मुख्यमंत्री के निर्देश का असर जिले में दिखने लगा है। एक अप्रैल से शुरु होने वाली गेहूं खरीद में व्यवस्थाआें से लेकर भुगतान भण्डारण और निगरानी की रुपरेखा तैयार कर सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी कर दिये है। हालांकि गेहूं खरीद का लक्ष्य अभी तक शासन से निर्धारित नहीं हुआ है। लेकिन समर्थन मूल्य अवश्य तय जरुर कर दिया गया।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस बार सरकारी क्रय केन्द्रों किसानो का 1625 रुपये प्रति कुन्तल की दर से खरीदा जाएगा। जो कि पिछले वर्ष की अपेक्षा 75 रुपये अधिक है। समर्थन मूल्य योजना के तहत गेहंू खरीद की तैयारियां युद्ध स्तर पर शुरु हो गयी है। रबी विपणन वर्ष 2017—18 के लिए जिलाधिकारी अदिति सिंह ने जिले में 46 क्रय केन्द्र खोलने का अनुमोदन किया है।

जिला खाद्य विपणन अधिकारी घनश्याम ने बताया कि शासन ने गेहूं का समर्थन मूल्य 1625 रुपये प्रति कुन्तल निर्धारित किया है। जिलाधिकारी ने सभी केन्द्रों पर इलेक्ट्रानिक कांटा, नयी मापक यंत्र, छलना, बोरा, छाया, पेयजल,माप, किसानों के बैठने आदि की व्यवस्थाएं दुरस्त करते हुए केन्द्रो को 27 मार्च तक ही संचालन की स्थिति में रखने के निर्देश दिये है कि सभी जिला प्रबन्धक बैनर व अभिलेखों में समरुपता रखे।

मण्डी समिति द्वारा कृषको की सुख सुविधा की व्यवस्था कराई जाएगी। खरीदे जाने वाले गेहूं की उतराई, छनाई व सफाई का व्यय किसानो से नहीं लिया जाएगा इसका वहन मण्डी समिति करेगी। इलेक्ट्रानिक कांटो को सत्यापित करने के लिए बांट माप निरीक्षक को जिलाधिकारी ने निर्देशित कर दिया है।

46 में 23 केन्द्र पीसीएफ के

गेहूं खरीद की जिम्मेदारी 6 विभागों को सौपी गयी है। जिसमें विपणन विभाग द्वारा 6 केन्द्र, यूपी स्टेट एग्रो द्वारा 4, एसएफसी के 9, कर्मचारी कल्याण निगम के 2, भारतीय खाद्य विभाग के द्वारा 2 केन्द्र खोले जाएगें। जबकि पीसीएफ के द्वारा सर्वाधिक 23 केन्द्र खुलेगें।

सीबीएस बैंक में होना चाहिए खाता

गेहूं खरीद का पैसा सीधे किसानों के खाते में जाएगा। जिला खाद्य विपणन अधिकारी ने बताया कि जिन किसानों के खाते सीबीएस ब्रांच में नहीं है वे अपना खाता सीबीएस ब्रांच में खुलवा ले ताकि भुगतान के किसी प्रकार की असुविधा न हो।

तो एक लाख एमटी के पार भी जा सकता है लक्ष्य

शासन ने खरीद का लक्ष्य भले ही निर्धारित न किया गया हो लेकिन मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरुप बीते वर्ष से दोगुना गेहूं खरीदने की बात कही जा रही है। गत वर्ष जिले को 570 मीट्रिक टन गेहंू खरीद का लक्ष्य दिया गया था। इस लिहाज से इस बार जनपद में खरीद का लक्ष्य एक लाख मीट्रिक टन का आकड़ा पार करने का अनुमान लगाया जा रहा है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top