सिर्फ 63 गाँव ही हो पाए ओडीएफ

सिर्फ 63 गाँव ही हो पाए ओडीएफजिला प्रशासन द्वारा घोषित किये गये मरौरी ब्लाक के तीन ओडीएफ गाँव का सर्वे किया।

अनिल चौधरी ,स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

पीलीभीत। जिले में प्रोग्राम को शुरू हुए लगभग ढाई वर्ष हो चुके हैं, लेकिन इन शौचालय के निर्माण का कार्य इतनी धीमी गति से चल रहा है कि जनपद के 721 ग्राम पंचायतों के 1443 राजस्व गाँव में से मात्र 63 गाँव ही ओडीएफ घोषित किये जा सके। जिला प्रशासन द्वारा घोषित किये गये मरौरी ब्लाक के तीन ओडीएफ गाँव का सर्वे किया।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

गाँव में पहले से ही काफी शौचालय बने थे। वहीं इसी ब्लाक के गाँव अजीतपुर सरई जो ओडीएफ ग्राम घोषित किया जा चुका है। लेकिन अभी भी 20 प्रतिशत लोग सुबह के समय खेतों में जाते हैं। इस बारे में जब ग्राम प्रधान लालाराम से बात की गयी तो उन्होंने बताया, “काफी प्रयास के बाद भी कुछ लोग मान नहीं रहे हैं। सुबह सीटी बजाओ कार्यक्रम भी चलाया गया। मना करने पर ग्रामीण झगड़े पर उतारू हो जाते हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top