ओडीएफ गांव को ही मिलेगा प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ

Deepanshu MishraDeepanshu Mishra   17 March 2017 12:11 PM GMT

ओडीएफ गांव को ही मिलेगा प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभकेंद्र सरकार खुले में शौच से मुक्त गाँवों में प्रधानमंत्री आवास बनाने जा रही है।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। अब उन्हीं गाँवों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ मिलेगा, जो गाँव पूरी तरह से खुले में शौच मुक्त हो गए होंगे। केंद्र सरकार खुले में शौच से मुक्त गाँवों में प्रधानमंत्री आवास बनाने जा रही है।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

केंद्र सरकार ने दो साल पहले स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी। पिछले साल योजना के तहत खुले में शौच मुक्त गाँव बनाने का काम शुरू हो गया था। केंद्र सरकार का लक्ष्य है कि 2020 तक प्रत्येक गाँव को खुले में शौच से मुक्त कर दिया जाए।

स्वच्छ भारत मिशन के राज्य सलाहकार संजय सिंह चौहान बताते हैं, “केन्द्र और प्रदेश सरकार मिलकर हर गाँव को खुले में शौच से मुक्त करने के प्रयास में लगी है, अब ये नियम बनाया जा रहा है, जिसमें उसी गाँव को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ मिलेगा, जो पूरी तरह से खुले में शौच से मुक्त हो गए होंगे।”

वह आगे बताते हैं, “ऐसे नियम बनाने से ग्रामीणों का झुकाव इस कार्यक्रम की तरफ बढ़ेगा और जल्द से जल्द भारत को खुले में शौच से मुक्त कराया जा सकेगा। गाँवों को खुले में शौच से मुक्त बनाने के लिए सरकार योजना चला रही है। सरकारी अधिकारी व कर्मचारी ग्रामीणों को जगाने का काम कर रहे हैं।”

लखनऊ जिले के बख्शी का तालाब ब्लॉक के अलदमपुर गाँव के प्रधान अतुल कुमार शुक्ला कहते हैं, “अभी तक प्रधानमंत्री आवास मिलता था, लेकिन अब नई योजना से ग्रामीणों को आवास तो मिलेंगे ही, साथ ही गाँव भी खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा।”

केंद्र सरकार ने पिछले साल प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत की थी। इसके तहत आवास उन गाँवों में बनने थे, जहां गरीब परिवार रहते हैं। गरीबों का सर्वे पहले आर्थिक आधार पर हुआ। अब सरकार ने एक नियम में बदलाव कर दिया है। इसके तहत ओडीएफ (ओपेन डिफिकेशन फ्री) गाँवों में प्रधानमंत्री आवास योजना को पहले लागू किया जाएगा। इन गाँवों में गरीबों के आवास पहले बनाए जाएंगे। योजना के तहत ओडीएफ हो चुके गाँवों में उन लोगों को ढूंढा जाएगा। जिसके पास आवास नहीं है और उनकी आर्थिक स्थिति कमजोर है।

अब ये नियम बनाया जा रहा है, जिसमें उसी गाँव को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ मिलेगा, जो पूरी तरह से खुले में शौच से मुक्त हो गए होंगे।
संजय सिंह चौहान, राज्य सलाहकार, स्वच्छ भारत मिशन

लखनऊ के ये गाँव हो चुके हैं खुले में शौच से मुक्त

वात्सल्य संस्था के प्रोजेक्ट कोआर्डिनेटर नवीन शुक्ला बताते है, “मुजासा, रायपुर, लालपुर, पुरवा, ढिगोई, सलीमपुर, अक्षराता, विगारियामऊ, पपनामऊ अब तक स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत खुले में शौच से मुक्त हो चुके हैं।” स्वच्छ भारत मिशन के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में 2551 ग्राम पंचायतें खुले में शौच से मुक्त हो चुकी हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top