मौसम बदलते ही बच्चों में बढ़ रहा डायरिया का प्रकोप

मौसम बदलते ही बच्चों में बढ़ रहा डायरिया का प्रकोपगर्मी का मौसम आते ही शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में डायरिया का प्रकोप बढ़ने लगता है।

भारती सचान, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

कानपुर देहात। गर्मी का मौसम आते ही शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में डायरिया का प्रकोप बढ़ने लगता है। ज्यादातर बच्चे डायरिया के कारण उल्टी, दस्त और बुखार से पीड़ित होते हैं। इस बीमारी से निपटने के लिए गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के स्वयं प्रोजेक्ट के तहत जिले के ग्रामीण क्षेत्र में स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। इस शिविर में डॉक्टरों ने ग्रामीणों को डायरिया से बचने के उपाय बताए।

स्वास्थ्य से जुडी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

जिला मुख्यालय से लगभग 63 किलोमीटर दूर झींझक ब्लॉक के ग्राम मंगलपुर में स्वयं प्रोजेक्ट के तहत स्वास्थ्य शिविर लगाया गया। शिविर में झींझक ब्लाक के सीएचसी के डॉक्टरों की टीम ने ग्रामीणों को स्वास्थ्य संबंधी जानकारी दी और इलाज करवाया। शिविर में डॉ. आशीष, डॉ. विजय लक्ष्मी ने बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। परीक्षण के दौरान चार बच्चों को जिनका इलाज वहां नहीं हो पाया उनको सीएचसी भेज कर जांच और दवा दी गई।

जैसे-जैसे गर्मी बढ़ती जाएगी वैसे-वैसे संक्रामक बीमारियां फैलने लगती हैं। संक्रामक बीमारियों में सबसे ज्यादा डायरिया फैलती है। डायरिया से बचने के लिए ज्यादा से ज्यादा लोग पीने के लिए स्वच्छ पानी का प्रयोग करें।
जय सिंह, हेल्थ शिक्षा अधिकारी

डॉ. आशीष बताते हैं, “स्वास्थ्य जांच शिविर में 150 बच्चों और 55 महिला और 40 पुरुषों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया।”

चौपाल में सुनी गईं समस्याएं

स्वयं प्रोजेक्ट के तहत गाँव में चौपाल का आयोजन भी किया गया। चौपाल में एडीओ पंचायत ने ग्रामीणों की समस्याएं सुनी। एडीओ पंचायत मो. रसीद ने ग्रामीणों को सरकारी आवास, विधवा पेंशन, वृद्धा पेंशन और कई तरह की सरकारी योजनाओं के बारे में बताया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top