चिकन नहीं अब सब्जी बेचने की तैयारी

चिकन नहीं अब सब्जी बेचने की तैयारीप्रतिबंध के बाद बूचड़खानों में हो रही मास की कमी।

बसंत कुमार, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने सत्ता संभालते ही अवैध बूचड़खाने पर प्रतिबंध लगाना शुरू कर दिया, जिसके बाद बाज़ार में मांस की कमी हो गई है। नतीजतन वैध दुकानों में उपलब्ध मासों के दाम में वृद्धि आ गई है। कई दुकानदार तो सब्जी की दुकान बेचने की शुरुआत करने जा रहे हैं।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

नरही बाज़ार में पिछले दस साल से ज्यादा समय से चिकन की दुकान चलाने वाले अब्दुल के पास नगर निगम का लाइसेंस नहीं था। लाइसेंस नहीं होने के कारण अब्दुल की दुकान पुलिस ने बंद करा दी। अब्दुल बताते हैं कि अगर लाइसेंस मिल जाता है तो ठीक नहीं तो सब्जी की दुकान खोल लूंगा। बूचड़खानेपर प्रतिबंध के विरोध में लखनऊ की मुर्गा मंडी समिति ने अनिश्चितकालीन बंदी का एलान किया, जिसके बाद से चिकन के दाम में वृद्धि आई है।

मुर्गा फुटकर में जो बिना कटे 130 रुपए मिलता था, अब 140 रुपए बिक रहा है और कटा हुआ मुर्गा 180 रुपए के बदले 200 रुपए किलो बिक रहा है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top