धान की बुवाई से पहले डिस्क कल्टीवेटर से तैयार करें खेत

Devanshu Mani TiwariDevanshu Mani Tiwari   12 May 2017 8:39 AM GMT

धान की बुवाई से पहले डिस्क कल्टीवेटर से तैयार करें खेतबुआई से पहले डिस्क कल्टीवेटर ( हैरो) की मदद से खेत अधिक उपजाऊ हो जाता है।

स्वयं प्रजोक्ट डेस्क

लखनऊ। उत्तर प्रदेश धान पैदा करने वाला भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य है। प्रदेश के अधिकतर किसान धान की बुआई मई के अंत तक व जून के शुरुआती दिनों में करते हैं, ऐसे में बुआई से पहले डिस्क कल्टीवेटर ( हैरो) की मदद से खेत में बची हुई गेहूं की खूंटी और पलेवा जोत कर हटा दें। इससे खेत की मिट्टी समतल होकर और अधिक उपजाऊ हो जाती है।

मथुरा जिले के कैलाश शर्मा (46 वर्ष) रोटावेटर, थ्रेशर और डिस्क कल्टीवेटर जैसी कृषि मशीनों के बड़े व्यापारी हैं। कैलाश बताते हैं,'' धान बुवाई करने से पहले खेत तैयार करना बहुत ज़रूरी होता है।धान की खेती से पहले खेत में बचे गेहूं के खूंटे और मिट्टी के ढीले बराबर करने के लिए डिस्क कल्टीवेटर से खेत को समतल करने से धान की पैदावार और अधिक बढ़ जाती है।''

ये भी पढ़ें- इत्र नगरी के तरबूज की मांग अन्य जिलों में भी

डिस्क कल्टीवेटर को डिस्क हैरो नाम से भी जाना जाता है।इस मशीन को बुआई से पहले खेत में चलाने से खरपतवार के छोटे टुकड़े हो जाते हैं और वो मिट्टी में दब जाते हैं। खूंटियों के मिट्टी में दब जाने से खेत समतल हो जाता है, इससे धान की उपज अच्छी मिलती है और फसल तेज़ी से बढ़ती है।
डा. आरके पांडेय, वैज्ञानिक(पौध सुरक्षा), कृषि विज्ञान केंद्र,बहराइच

डिस्क कल्टीवेटर बैल और ट्रैक्टर दोनों से चलाया जाता है। बैल चालित डिस्क कल्टीवेटरों में तिकोनिया और खूंटीदार कल्टीवेटर ज़्यादा प्रयोग किए जाते हैं। ट्रैक्टर चालित हैरो (6x6,7x7, 8x8 और 12x12 डिस्क संख्या) में आते हैं। बैल चलित डिस्क कल्टीवेटर पांच हज़ार से आठ हज़ार रुपए तक मिलता है, वहीं ट्रैक्टर चलित डिस्क हैरो 25,000 से 55,000 रुपए तक मिलता है।

ये भी पढ़ें- कीटों के प्रकोप से बर्बाद हो रही करेले की खेती

बाज़ार में उपलब्ध मिनी और लार्ज टाइप के डिस्क कल्टीवेटर ट्रैक्टरों की क्षमता के अनुसान प्रयोग किए जाते हैं। 6x6 और 7x7 डिस्क संख्या के हैरो की मांग बाज़ार में सबसे अधिक है। प्रदेश सरकार अपनी कृषि यंत्रीकरण योजना के अंतर्गत डिस्क कल्टीवेटर यंत्र पर 25 प्रतिशत की छूट दे रही है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top