मानक पर खरे नहीं उतर रहे जनसुविधा केंद्र 

Mohit AsthanaMohit Asthana   25 May 2017 10:36 PM GMT

मानक पर खरे नहीं उतर रहे जनसुविधा केंद्र गाँव के लोगों को सुविधा देने के लिए शुरू किए गए जनसुविधा केंद्र शहरों में चल रहे हैं।

आभा मिश्रा, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

कन्नौज। गाँव के लोगों को सुविधा देने के लिए शुरू किए गए जनसुविधा केंद्र शहरों में चल रहे हैं। ये खुलासा निरीक्षण में हुआ। ऐसे ही एक केंद्र की आईडी और पासवर्ड लॉक कर दिया गया है। कई को चेतावनी भी दी गई है।

ई-डिस्ट्रिक मैनेजर (रेवन्यू) बृजेश यादव ने बताया, ‘‘जिलाधिकारी के आदेश पर जनसुविधा केंद्रों की जांच चल रही है। जिले के सभी 504 ग्राम पंचायतों में चलने वाले केंद्रों की स्थलीय जांच होगी। जो भी केंद्र संबंधित स्थान पर नहीं मिलेंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।’’

जिला मुख्यालय से करीब 16 किमी दूर तिर्वा कस्बे के बरधइया मार्ग अशोक नगर में धीरज सक्सेना का जनसुविधा केंद्र चल रहा है। ई-डिस्ट्रिक मैनेजर बताते हैं, ‘‘यहां सेवाएं नहीं दी जा रही हैं। कम्प्यूटर तो लगे हैं। 15 दिन का समय दिया गया है।’’ वह आगे बताते हैं, ‘‘इसी तरह सुभाषनगर के नाम से एलॉट जितेंद्र सिंह यादव का सेंटर दूसरे मोहल्ले में चलता मिला। इनकी भी आईडी-पासवर्ड बंद करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

कहा गया है कि लोकेशन चेंज कर ली जाए।’’ कन्नौज से 19 किमी दूर अहेर में सलमान का जनसुविधा केंद्र पांच-छह महीने से नहीं चल रहा है। इनकी भी आईडी बंद कर दी जाएगी। ई-डिस्ट्रिक मैनेजर ने बताया, ‘‘सुखी गाँव के नाम से लिया गया सेंटर उमर्दा में चल रहा है। जब तक यह अपने यथास्थान पर नहीं चलाएंगे, इनकी आईडी बंद रहेगी। इसके लिए आदित्य यादव को निर्देशित किया गया है।’’

तालग्राम ब्लॉक क्षेत्र के सकरहनी के लिए रोहित कुमार ने जनसुविधा केंद्र लिया था, लेकिन वह गुरसहायगंज में चलता मिला। यह केंद्र इनका भाई मोहित चलाता मिला। जांच करने के बाद ई-डिस्ट्रिक मैनेजर ने बताया कि बालाजी कम्प्यूटर गुरसहायगंज पर सचिन कुमार ने फर्जी तरीके से सहज का बोर्ड टांग रखा है। उनको परमीशन नहीं दी गई है। तत्काल बोर्ड हटाने को कहा गया है।

क्या है जनसुविधा केंद्र

जनसुविधा केंद्र पर सरकारी विभागों के लिए आवेदन होते हैं, जो मांग के अनुसार विभिन्न तरह के प्रमाण पत्र देते हैं। इसके लिए एक निश्चित समय-सीमा होती है। जिले में आय प्रमाण पत्र, जाति और मूल निवास प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र, खतौनी, पैनकार्ड, आधारकार्ड आदि की सुविधा मुहैया कराई जाती है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top