#स्वयंफ़ेस्टिवल : कुछ को मिला सम्मान और कईयों को प्रेरणा  

#स्वयंफ़ेस्टिवल : कुछ को मिला सम्मान  और कईयों को प्रेरणा  सीतापुर के मस्जिद बाज़ार गाँव में स्वयं फेस्टिवल में शामिल हुए सैकड़ों ग्रामीण

दिवेंद्र सिंह (कम्युनिटी रिपोर्टर) 28 वर्ष


महोली(सीतापुर)। सीतापुर जिला मुख्यालय से लगभग 30 किमी दूर महोली ब्लाक के मस्जिद बाजार गाँव में आज ग्रामीणों का तांता लगा हुआ था. गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के स्वयं फ़ेस्टिवल के तहत आज यहां उन 10 किसानों और खेती से जुड़े लोगों को सम्मानित किया जाना था जिन्होंने खेती के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रयोग किये और अन्य किसानों के लिए भी मिसाल बने.


ग्रामीणों के मुताबिक़ ये पहला मौका था, जब एक ही जगह पर किसानों को खेती से सम्बंधित जानकारियों के साथ ही पशु स्वास्थ्य की जानकारी भी दी गयी. इस अवसर पर कार्यक्रम में जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी ने कहा “मैं गाँव कनेक्शन परिवार का आभारी हूँ, जिसकी मेहनत से यहाँ गाँव मेला आयोजन हुआ. इनती सुदूर जगह पर जहां कोई अधिकारी नहीं आना चाहते वहां इतने लोगों को जुटा पाना काबिले तारीफ़ है.”

गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के इस जलसे में आये सैकड़ों ग्रामीण जिनमें बच्चे, महिलाएं, पुरुष और उम्रदराज़ हर तरह के लोग शामिल थे आज उम्मीद से भरे थे. आज उन्हें महसूस हो रहा था कि उनकी आवाज़ भी सुनी जा सकती है और कोई है जो उनकी मेहनत को भी सम्मान की नज़र से देखता है.

हज़ारों लोगों के इस मजमें में कई प्रशासनिक अधिकारी ग्रामीणों से सीधे मुख़ातिब हुए और उन्हें अलग-अलग पहलुओं पर जानकारियां मुहैया कराई. कार्यक्रम में जिन 10 लोगों को सम्मानित किया उनमें दसरथपुर गाँव के प्रगतिशील किसान कमलेश सिंह भी शामिल हैं. कमलेश गिर नस्ल की देसी गाय पर शोध कर रहे हैं, साथ ही वो किसानों को वर्मी कम्पोस्ट का प्रशिक्षण भी देते हैं।

कमलेश के अलावा कृषि वैज्ञानिक डॉ दया शंकर श्रीवास्तव को भी पुरस्कृत किया गया. कृषि विज्ञान केंद्र कटिया के वैज्ञानिक डॉ दया शंकर श्रीवास्तव कृषि के क्षेत्र में बेहतर काम करने के लिए जाने जाते हैं।

साथ ही किसान संतोष कुमार मौर्य को टमाटर की नई किस्में विकसित करने के लिए फाउंडेशन की तरफ़ से सम्मान दिया गया. सम्मान पाने वालों में सुधा पाण्डेय भी शामिल थी जो डेरी का संचालन करती हैं. मिश्रिख गाँव की सुधा ने अपने क्षेत्र की महिलाओं को डेयरी का प्रशिक्षण दिया और खुद भी सफल डेयरी चला रही हैं.

इस अवसर पर सम्मानित की गई एक और शख्सियत एसआरके इंटर कॉलेज की प्रबंधक सीमा मोहन हर रोज़ लखनऊ से 45 किमी दूर सीतापुर के अटरिया तक आकर कॉलेज का संचालन करती हैं. वो बताती हैं शुरुआत में उन्हें पढने वाले बच्चों को जुटाने में बड़ी मुश्किल हुई लेकिन उनकी मेहनत ही थी कि आज उनके कॉलेज में आस पास के गाँव के हज़ारों बच्चे पढ़ने आते हैं.

इनके साथ विनय कुमार शुक्ल को भी सम्मानित किया जो रेडियो पर अपनी आवाज़ का जादू बिखेरते हैं और खेतों में अपनी मेहनत का. मेले में फ़ोर्स और मैसी ट्रेक्टर कंपनियों ने किसानों को टेस्ट ड्राइव करने का मौका भी दिया जिसका किसानों ने भरपूर लाभ उठाया.

मेले में कृषि विभाग, उद्यान विभाग, पशुपालन, स्वास्थ्य शिविर, गन्न विभाग, कृषि विज्ञान केंद्र, इफको, इफको एम् सी, सुमिल केमिकल, गोदरेज क्रॉप केअर, बायर, सुमिटोमो केमिकल जापान, धानुका एग्रीटेक, एकता किसान क्लब, मेस्सी ट्रेक्टर, फ़ोर्स ट्रेक्टर, नाबार्ड, इलाहाबाद बैंक, zydex इंड्रस्टीस, बिल्लोवूड क्रॉप केअर, गोयल वेट फार्मा, टी स्टेन्स आदि के स्टाल पर किसानो को खेती से जुड़ी विभिन्न तकनीकों की जानकारी दी गयी।

इस मेले में स्वास्थ विभाग ने भी अपना एक कैंप लगाया जिसमें ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया गया. कार्यक्रम में जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी, मुख्य विकास अधिकारी रवीन्द्र यादव, जिला उद्यान अधिकारी विनय यादव, अग्रणी बैंक अधिकारी, जिला गन्ना अधिकारी, कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक डॉ आनंद सिंह, डॉ दया शंकर श्रीवास्तव भी मौजूद थे.

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top