मटर की फसल को पाउडरी मिल्ड्यू रोग से बचाने के लिए करें ये उपाय

मटर की फसल को पाउडरी मिल्ड्यू रोग से बचाने के लिए करें ये उपायमटर की फसल को पाउडरी मिल्ड्यू रोग से बचाने के सुझाव।

पाउडरी मिल्ड्यू रोग के लक्षण पत्तियों, कलियों, टहनियों व फूलों पर सफेद पाऊडर के रूप में दिखाई देता है। पत्तियों पर की दोनों सतह पर सफेद रंग के छोटे-छोटे धब्बों के रूप में उत्पन्न होते हैं व धीरे-धीरे फैलकर पत्ती की सारी सतह पर फैल जाते है। रोगी पत्तियां सख्त होकर मुड़ जाती हैं।

अधिक संक्रमण होने पर सूख कर झड़ जाती हैं। संक्रमित कलिकाएं अन्य स्वस्थ कलिकाओं से पांच से आठ दिन बाद खिलती हैं और उन पर फल नहीं लगते। अगर उनमें फल लग भी जाएं तो वे छोटे आकार के रह जाते हैं। इससे बचने के लिए सल्फर तीन ग्राम प्रति लीटर के हिसाब से छिड़काव करना चाहिए।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top