किसान शुरू करें गन्ने की बुवाई

किसान शुरू करें गन्ने की बुवाईफरवरी से मार्च तक गन्ना बुवाई के लिए सही समय होता है।

जबरपाल सिंह, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

करनपुर (बरेली)। फरवरी से मार्च तक गन्ना बुवाई के लिए सही समय होता है। जो किसान ट्रेंच विधि से गन्ना उगा रहे हैं उनको एसएसपी का प्रयोग करना चाहिए। इससे गन्ने की पैदावार भी अच्छी होगी।

खेती किसानी से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

गन्ने को डीएपी के अनुपात में एसएसपी के प्रयोग के बारे में जुबिलेंट ऐग्री एंड कंजयूमर प्रोडक्ट्स लि. के प्रतिनिधि विक्रांत तोमर ने बताया, “इस समय ज्यादातर किसान गन्ना की बुवाई शुरू कर देते हैं। ऐसे में एसएसपी का प्रयोग करके गन्ने की अच्छी पैदावार कर सकते हैं। एक बैग डीएपी के अनुपात में तीन बैग एसएसपी की कीमत लगभग एक सामान होती है।

ट्रेंच विधि से ऐसे करें बुवाई

ट्रेंच प्लान्टर द्वारा पूरब-पश्चिम दिशा में क्षैतिज विधि से दो गन्ने के टुकड़े को एक सेमी की दूरी पर बोएं। इससे कुल 32 कुंतल प्रति एकड़ बीज की आवश्यकता होगी।

गोबर की सड़ी हुई खाद तीन ट्रॉली (150 कुंतल) प्रति एकड़ डालकर पलेवा करें। बीज 11-12 महीने पुराना होना चाहिए। इससे 1/3 ऊपर का भाग अधिक जमता है।

बुवाई के बाद इन बातों का रखें ध्यान

  • 30-35 दिन बाद प्रथम सिंचाई के पहले और ओट आने पर 35 किग्रा यूरिया का प्रयोग गन्ने की लाइन के पास करें।
  • 50-60 दिन बाद दूसरी सिंचाई के पहले और ओट आने पर 45 किग्रा यूरिया एवं 40 किग्रा पोटाश तथा पांच किग्रा मोनोजिंक गन्ने की लाइन के पास डालकर गुड़ाई करें।
  • 90-100 दिन बाद सिंचाई के पहले और ओट आने पर 45 किग्रा यूरिया, 30 किग्रा पोटाश तथा दो किग्रा सल्फर 80 प्रतिशत को गन्ने की लाइन के पास डालकर गुड़ाई करके पौधों पर मिट्टी चढ़ा दें। गन्ने में फसल की आवश्यकतानुसार सूंडी और फफूंदी जनित रोगों का नियंत्रण जरूर करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top