#स्वयंफ़ेस्टिवल : कम्पनियां सीधे जुड़ी किसानों से, बताये पैदावार के नुस्ख़े 

#स्वयंफ़ेस्टिवल : कम्पनियां सीधे जुड़ी किसानों से, बताये पैदावार के नुस्ख़े सुलतानपुर के लम्बुआ में किसान चौपाल में भाग लेते किसान।

सुशील सिंह (कम्युनिटी जर्नलिस्ट) 34 वर्ष

सुलतानपुर। नरहरपुर लम्बुआ में आज फ़सलों के बीज बेचने वाली कंपनियों के प्रतिनिधि और किसान आमने सामने थे लेकिन उनके बीच आज व्यापारी और उपभोक्ता वाला रिश्ता नहीं था। अलग-अलग कंपनियों के ये प्रतिनिधि किसानों को धान-गेहूं के बीजों की अच्छी किस्मों और फ़सलों की उपभोक्ता बढाने के नुस्खे बता रहे थे। मौका था गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के स्वयं फेस्टिवल के तहत आयोजित किसान गोष्ठी।

“किसान केवल दवा के प्रयोग की जागरूकता पर ध्यान दे तो अपनी पैदावार 4 से 5 क्विंटल प्रति एकड़ बढा सकता है.” ये कहना था मुकेश पाण्डेय का. लम्बुआ में आयोजित इस स्वयंफेस्टिवल के तहत आयोजित किसान चौपाल में गंगा कावेरी सीएस प्रा. लि. के एरिया मैनेजर मुकेश पाण्डेय ने किसानों को उत्पादकता पढ़ाने के और भी कई गुर सिखाये। उन्होंने बताया कि रोगों का उपचार उनके लगने के बाद नहीं बल्कि लगने से पहले ही हो जाना चाहिए।

लम्बुआ, सुलतानपुर, परम्परागत खेती के तरीकों में बदलाव के लाभ के विषय में मुकेश पाण्डेय, कमल नयन त्रिपाठी, आदि ने किसानों को संबोधित किया. फ़सलों में किसी भी चरण में रोग लगने का ख़तरा हो सकता है. जड़ में लगने वाले रोग उसकी ग्रोथ को रोक देते हैं। फिर पौधे के बड़े होने पर तने में सड़न का रोग हो सकता है. पत्ती आने पर पत्ती लपेटक रोग लगने का खतरा होता है. यहां तक कि बाली आने के बाद ताना छेदक रोग हो सकता है। ऐसे में ज़रूरी है कि किसानों को इस बात की जानकारी हो कि कब कौन सी दवा डालनी है।

गोष्ठी में गंगा कावेरी के संकर धान मार्शल 135, 502 दुर्गा, 5028 अन्नपूर्णा, 5038 अमृत एवं उन्नतशील धान जीके कावेरी , जीके गौरी, जीके कुबेर, जीके गरिमा, कावेरी गोल्ड, आदि धान की किस्मों की उन्नत खेती की जानकारी भी दी गई, जिससे किसान भाइयों को अधिक से अधिक पैदावार मिल सके।

गोष्ठी सेल्स एक्जीक्यूटिव कमल नयन त्रिपाठी, मेटाहालिम्स लाइफ साइन्सेज़ लि. (धान्या) के एरिया मैनेजर श्री विजय प्रताप सिंह , अजीत सीएस प्र. लि. के मार्केटिंग असोसिएट प्रेम बहादुर सिंह, गंगा कावेरी के डा. धर्मेश पाण्डेय, पी. एच. आई. सी. एस. के हर्ष वर्धन पाण्डेय, सीडवर्क्स इंटरनेश्नल के परमेश सिंह, ऍफ़ एम. सी के विवेक सिंह आदि ने भी किसानों को जानकारियां दी।

किसान गोष्ठी को कुछ किसानों ने भी संबोधित किया जिसमें प्रगतिशील किसान ज़िले के गौरव अशोक वर्मा और राजेश वर्मा ने कंपनी के प्रतिनिधियों से उनकी कंपनी की किस्मों की गुणवत्ता के विषय में सवाल-जवाब किया।

This article has been made possible because of financial support from Independent and Public-Spirited Media Foundation (www.ipsmf.org).

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top