शौचालय निर्माण में लक्ष्य से पिछड़ रहा उन्नाव

Shrivats AwasthiShrivats Awasthi   23 March 2017 4:50 PM GMT

शौचालय निर्माण में लक्ष्य से पिछड़ रहा उन्नावगाँव कनेक्शन

स्वयं प्रोजेक्ट अवस्थी

उन्नाव। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन का सपना फिलहाल जिले में साकार होता नहीं दिख रहा है। शौचालय निर्माण में जिला लगातार पिछड़ रहा है। चालू वित्तीय वर्ष में जिले को मिले शौचालय निर्माण का लक्ष्य अभी तक आधा भी नहीं हो पाया है।

गाँव से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

ऐसे में जिले को खुले में शौच से मुक्त बनाने की बातें कपोल कल्पना ही नज़र आ रही हैं। 22750 के सापेक्ष अभी तक 10220 शौचालयों का निर्माण ही हो पाया है। समीक्षा में जिले को 41वां स्थान मिला है। प्रगति कम होने को लेकर शासन ने कड़ी नाराजगी जताई है। जिसके बाद जिले में शौचालयों के निर्माण को लेकर सरगर्मी नजर आ रही है। इससे पहले भी शौचालय निर्माण की धीमी रफ़्तार पर विभागीय अधिकारियों ने कई तरह के बहाने मारे थे। अधिकारियों के मुताबिक चुनाव के फेर में काम धीमा हुआ था।

शौचालय निर्माण के लिए 141 ग्राम पंचायतों का चयन किया गया था। शुरुआत में शौचालय निर्माण में तेजी दिखाई दी। इसके बाद में यह रफ्तार अचानक सुस्त पड़ गई। इससे पहले भी निर्माण में सुस्त रफ़्तार पर अधिकारी आचार संहिता का हवाला दे रहे थे। जिला पंचायत राज विभाग के सूत्रों की मानें तो जनवरी माह में विधानसभा चुनाव की अधिसूचना लागू हो गई थी। इसके बाद विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों की मतदान कराने में ड्यूटी लगा दी गई थी।

कुछ समय पहले इस बारे में जिला पंचायत राज अधिकारी सर्वेश कुमार पांडेय ने अपने बयान में कहा था, “चुनाव के चलते कुछ काम प्रभावित हुआ है। अब चुनाव समाप्त हो चुका है। ऐसे में फ़ोकस केवल शौचालय निर्माण की ओर रखा जाएगा और एक माह के अंदर लक्ष्य को प्राप्त कर लिया जाएगा।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top